लाइव टीवी

महराष्ट्र में सियासी खींचतान: शरद पवार ने कहा- BJP और शिवसेना ही बनाएं सरकार

News18Hindi
Updated: November 8, 2019, 4:04 PM IST
महराष्ट्र में सियासी खींचतान: शरद पवार ने कहा- BJP और शिवसेना ही बनाएं सरकार
पवार ने कहा कि रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के प्रमुख रामदास अठावले (Ramdas Athawle) और मैंने बातचीत के बाद यह निर्णय लिया है कि हम इसी बात पर कायम रहेंगे कि सरकार शिवसेना और बीजेपी ही बनाए.

एनसीपी प्रमुख ने कहा- सरकार (Government) बनने में जितना समय लग रहा है उससे राज्‍य का नुकसान हो रहा है, अर्थव्यवस्‍था (Economy) पर भी गहरा प्रभाव पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2019, 4:04 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने को लेकर जारी सियासी खींचतान के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने एक बार फिर अपनी बात दोहराई है. पवार ने शुक्रवार को कहा कि बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के पास बहुमत है और उन्हें ही सरकार बनानी चाहिए. उन्होंने कहा कि रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के प्रमुख रामदास अठावले (Ramdas Athawle) और मैंने बातचीत के बाद यह निर्णय लिया है कि हम इसी बात पर कायम रहेंगे कि सरकार शिवसेना और बीजेपी ही बनाए. साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार बनाने में जितना समय ज्‍यादा लग रहा है उसका सीधा असर राज्य पर पड़ रहा है. इससे महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्‍था पर भी गहरा असर पड़ रहा है.

शिवसेना-NCP गठबंधन की भी थीं अटकलें
इससे पहले शिवसेना और एनसीपी के गठबंधन की भी बात सामने आ रही थी. हाल ही में दिल्ली में सोनिया गांधी से शरद पवार की मुलाकात के बाद यह कहा जा रहा था कि कांग्रेस की कुछ शर्तों के साथ एनसीपी और शिवसेना की गठबंधन सरकार महाराष्ट्र में बन सकती है. वहीं कुछ एनसीपी के नेताओं ने भी कहा था कि महाराष्ट्र में यदि शिवसेना चाहे तो पांच साल तक उन्हीं का मुख्यमंत्री रह सकता है लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें होंगी. साथ ही एनसीपी की तरफ से दो डिप्टी सीएम की भी बात कही गई थी. वहीं कांग्रेस की मुख्य शर्तों में केंद्रीय कैबिनेट में मौजूद शिवसेना के अकेले मंत्री का इस्तीफा शामिल था. इस पूरे गठबंधन को कांग्रेस बाहर से समर्थन देने पर राजी होती बताई गई थी.


Loading...

पहले भी कह चुके हैं पवार- नहीं बनाएंगे सरकार
बता दें कि पवार ने इससे पहले भी साफ किया था कि जनादेश के अनुसार अब हम (एनसीपी) विपक्ष की भूमिका निभाएंगे और सरकार का गठन शिवसेना और बीजेपी कर सकती है. उन्होंने स्पष्ट किया था कि वो विपक्ष में बैठेंगे. लेकिन इसी बीच कुछ अटकलों का दौर ऐसा चला कि शिवसेना और एनसीपी के गठबंधन की बात सामने आ गई.

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस को भी सताया हार्स ट्रेडिंग का डर, मुंबई से विधायक लाए गए जयपुर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 3:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...