NCP प्रमुख शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में सब ठीक, देश में तीसरा मोर्चा बनाने की जरूरत

 एनसीपी प्रमुख शरद पंवार।

एनसीपी प्रमुख शरद पंवार।

Maharashtra News: महाराष्ट्र में कांग्रेस और शिवसेना के साथ गठबंधन में सरकार चला रही एनसीपी के प्रमुख शरद पवार ने कहा कि देश में तीसरे मोर्चे की जरूरत है. उन्होंने कहा कि इसके लिए विभिन्न दलों से बातचीत भी हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 9:41 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में महा विकास अघाड़ी की सरकार (Maha Vikas Aghadi) के बीच चल रही खींचतान को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार में कोई दिक्कत नहीं हैं. इसके साथ ही पवार ने कहा कि देश में तीसरे मोर्चे की जरूरत है. उन्होंने कहा कि इसके लिए विभिन्न दलों से बातचीत भी हो रही है. पवार ने कहा कि हालांकि अभी तक तीसरे मोर्चे को कोई आकार नहीं दिया गया है. पवार ने बताया कि सीताराम येचुरी ने भी उनकी बात का समर्थन किया है.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी के गठबंधन की सरकार में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस हैं. वहीं महाराष्ट्र सरकार में चल रही गड़बड़ की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि महाराष्ट्र सरकार उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में ठीक तरीके से काम कर रही है. बता दें पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र सरकार में खींचतान की खबरें सामने आ रही हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि इसे लेकर शरद पवार के आवास पर कई दौर की बैठकें भी हो रही हैं.

ये भी पढ़ें- शिवरात्रि कार्यक्रम में कोरोना नियम तार-तार, भाजपा MLA ने भगवान पर मढ़ा दोष



शरद पवार के आवास पर बैठकों का दौर जारी
एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के मंत्री पवार से मिलने के लिए लगातार उनके आवास पर पहुंच रहे हैं. ऐसा कहा जा रहा था कि महाराष्ट्र के कई मुद्दों को लेकर शरद पवार सरकार के कामकाज को लेकर खुश नहीं हैं. हालांकि पार्टी नेताओं का कहना है कि सरकार स्थिर है और किसी भी तरह की कोई नाराजगी नहीं चल रही है.

इससे पहले शरद पवार और उद्धव ठाकरे ने सोमवार को मुलाकात की थी. एनसीपी सूत्रों ने बताया कि यह नियमित संवाद था. सूत्रों ने बताया कि जब से महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महा विकास आघाड़ी सरकार बनी है, तब से पवार सूत्र ने कहा, ‘‘ फिलहाल कोविड-19 के बढ़ते मामलों एवं स्थानीय निकाय चुनाव जैसे कई मुद्दे हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज