शरद पवार ने की उद्धव ठाकरे के साथ बैठक, अर्थव्यवस्था की बहाली के तौर तरीके सुझाये
Maharashtra News in Hindi

शरद पवार ने की उद्धव ठाकरे के साथ बैठक, अर्थव्यवस्था की बहाली के तौर तरीके सुझाये
पवार ने कहा कि ऐसे में श्रमिकों की व्यवस्थित वापसी की योजना तैयार करनी चाहिए (File Photo)

बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (Nationalist Congress Party) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने इस बात पर बल दिया कि कोविड-19 (Covid-19) का निकट भविष्य में सफाया नहीं होगा. कोरोना वायरस (Corornavirus) अब जीवन का हिस्सा है, इस बात को ध्यान में रखते हुए लोगों को उनके स्वास्थ्य की देखभाल के लिए जागरूक बनाया जाना चाहिए.

  • Share this:
मुम्बई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (Nationalist Congress Party) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने मंगलवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) के साथ महाराष्ट्र में कोविड-19 से उत्पन्न स्थिति को लेकर लंबी बातचीत की तथा उद्योगों को बहाल करने एवं धीरे धीरे स्थिति सामान्य करके राज्य की अर्थव्यस्था को फिर से पटरी पर लाने के तरीके सुझाए.

दोनों नेताओं ने पिछले सप्ताह के आखिर में भी महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोविड-19 (Covid-19) की स्थिति तथा उसे नियंत्रित करने के उपायों पर चर्चा की थी जहां कई मंत्री मौजूद थे.

पवार ने दिया इस बात पर जोर
मंगलवार की बैठक में पवार ने इस बात पर बल दिया कि कोविड-19 का निकट भविष्य में सफाया नहीं होगा. कोरोना वायरस अब जीवन का हिस्सा है, इस बात को ध्यान में रखते हुए लोगों को उनके स्वास्थ्य की देखभाल के लिए जागरूक बनाया जाना चाहिए.
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उद्योग अपना कामकाज बहाल करने की स्थिति में नहीं हैं क्योंकि श्रमिक कोरोना वायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) के चलते अपने मूल स्थानों को जा चुके हैं.



श्रमिकों की व्यवस्थित वापसी की योजना तैयार करनी चाहिए
पवार ने कहा कि ऐसे में श्रमिकों की व्यवस्थित वापसी की योजना तैयार करनी चाहिए ताकि महाराष्ट्र में औद्योगिक गतिविधियां फिर शुरू की जा सकें. राज्य में लॉकडाउन 31 मई तक बढ़ा दिया गया है.

पवार ने इस बैठक के बाद ट्वीट किया, ‘‘(मैंने) राज्य के माननीय मुख्यमंत्री से कोरोना वायरस की रफ्तार से उत्पन्न स्थिति, चुनौतियां, एहतियाती उपायों और विभिन्न वर्गों के लिए किये जाने वाले उपायों पर चर्चा की. मैंने परिवहन, शिक्षा, कृषि, उद्योग जैसे कई मुद्दों पर सुझाव दिये.’’

अध्ययन दल बनाने पर भी दिया जोर
उन्होंने कहा कि कोविड-19 लॉकडाउन से शैक्षणिक संस्थानों को राजस्व का घाटा हुआ है, जिससे उनके चरमराने की नौबत आ सकती है, ऐसे में यह सुनिश्चित करने के लिए एक अध्ययन दल बनाया जाए कि विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं संस्थानों को नुकसान नहीं हो तथा शिक्षण में विलंब न हो.

एनसीपी प्रमुख ने औद्योगिक क्षेत्र में बेरोजगार मराठी युवाओं को शामिल करने की योजना तैयार करने का आह्वान किया.

ये भी पढ़ें-
IIT दिल्ली का दावा- कोरोना वायरस रोकने के लिए प्रभावी हो सकता है अश्वगंधा

बढ़ते मामलों को देख कर्नाटक ने इन चार राज्यों के लोगों की एंट्री बैन की
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading