CM उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के खिलाफ शेयर की अपमानजनक पोस्ट, FIR दर्ज
Maharashtra News in Hindi

CM उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के खिलाफ शेयर की अपमानजनक पोस्ट, FIR दर्ज
उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे की फाइल फोटो (PTI)

पेशे से वकील और शिवसेना कार्यकर्ता धर्मेंद्र मिश्रा की शिकायत पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackrey) और कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे (Aditya Thackrey) के खिलाफ की गई अपमानजनक पोस्ट के खिलाफ FIR की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 7, 2020, 7:39 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackrey) और कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे (Aditya Thackrey) के बारे में सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है. पोस्ट में उद्धव की तस्वीर से छेड़छाड़ की गई है. बताया गया कि सीएम और काबीना मंत्री के खिलाफ की गई पोस्ट के मामले में मुंबई पुलिस के साइबर सेल ने एफआईआर दर्ज की है. सुनयना नाम हॉले से बनाए गए ट्विटर हैंडल से अपमानजनक टिप्पणीकी गई है. पोस्ट में एक तस्वीर शेयर की गई है जिसमें उद्धव के तस्वीर से छेड़छाड़ कर उन्हें मौलवी की तरह दिखाया गया है और टिप्पणी भी की गई है. पुलिस ने यह एफआईआर पेशे से वकील और शिवसेना कार्यकर्ता धर्मेंद्र मिश्रा की शिकायत पर दर्ज की है.

इससे पहले गुजरात के वड़ोदरा जिले में एक सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य को कोरोना वायरस और निजामुद्दीन मरकज के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मीडिया पर अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

प्रधानमंत्री के खिलाफ की थी आपत्तिजनक टिप्पणी
पाड्रा थाने के पुलिस निरीक्षक एस ए करमुर ने शिकायत के आधार पर बताया था कि आरोपी नूर मोहम्मद मलिक ने सोशल मीडिया पर इन पंक्तियों के साथ एक तस्वीर साझा की थी कि ‘निजामुद्दीन मरकज में लोग छिपे हैं, लेकिन वैष्णो देवी में फंसे हैं.' पुलिस अधिकारी ने बताया था कि आरोपी ने यह भी लिखा था कि मीडिया कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक है. मलिक ने शिक्षकों और प्रधानाचार्यों के एक व्हाट्सएप ग्रुप में एक वीडियो भी साझा किया था.
मलिक पाड्रा शहर के पास सेजाकुवा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय का प्रधानाचार्य है. पुलिस ने बताया था कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके खिलाफ धर्म के आधार पर समूहों में दुश्मनी पैदा करने, दुश्मनी बढ़ाने संबंधी बयान देने और नफरत बढ़ाने के आरोप में भादंसं तथा आपदा प्रबंधन कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस अधिकारी ने बताया थाकि आरोपी अपने द्वारा साझा किए गए वीडयो में प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते भी सुनाई देता है. उन्होंने बताया था कि व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल एक शिक्षक ने पुलिस को इस बारे में शिकायत दी थी. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज