20 हज़ार शार्क को मारकर जमा कर रखी थी करोड़ों की 'फिन', चार गिरफ्तार

शार्क फिन की सबसे ज़्यादा मांग चीन, जापान और हॉन्गकॉन्ग में है जहां पर शार्क फिन के सूप की काफी मांग है.

Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: September 4, 2018, 12:30 PM IST
20 हज़ार शार्क को मारकर जमा कर रखी थी करोड़ों की 'फिन', चार गिरफ्तार
प्रतीकात्मक तस्वीर
Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: September 4, 2018, 12:30 PM IST
मुंबई डीआरआई (डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस) ने शार्क फिन की तस्करी करने वाले एक इंटरनेशनल गिरोह का पर्दाफाश किया है. यह गिरोह महाराष्ट्र और गुजरात समेत कई शहरों के समंदरों से शार्क फिन को निकाल कर उनकी विदेशों में तस्करी करता था. इस मामले में डीआरआई ने कुल चार लोगों को गिरफ्तार किया है, और 40 करोड़ के शार्क फिन को मुंबई के गौदाम से जब्त भी किया है.

आरोपी सिर्फ शार्क फिन को निकाल लेते थे और बाद भी शार्क को बिना फिन के समंदर में छोड़ देते थे, जिसकी वजह से उनकी मौत हो जाती थी. डीआरआई ने आरोपियों के गोदाम से लगभग 40 करोड़ के शार्क फिन को जब्त किया है, जिसे आरोपी चीन, हॉन्गकॉन्ग समेत कई देशों में भेजने की तैयारी कर रहे थे. कानून के मुताबित शार्क फिन पर भारत में पूरी तरह से रोक है. इसे रखना और बेचना गैर-कानूनी है. आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के बाद 17 सितंबर तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है.

ये भी पढ़ेंः मेंगलुरू में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, सड़कों पर दिखे सांप और शार्क

आरोपियों के वकील रवि हिरानी का कहना है कि डीआरआई को इस संबंध में किसी तरह के दस्तावेज नहीं मिले हैं. उनके गोदाम से सिर्फ शार्क फिन मिले हैं, पर वो लोग उसे बेचने वाले नहीं थे. कोर्ट ने सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

दरअसल, शार्क फिन की सबसे ज़्यादा मांग चीन, जापान और हॉन्गकॉन्ग में है जहां पर शार्क फिन के सूप की काफी मांग है. इन देशों में एक कप शार्क फिन सूप की कीमत 100 से 500 डॉलर होती है. इसके अलावा शार्क फिन से सेक्स वर्धक दवाएं भी बनाई जाती हैं.

ये भी पढ़ेंः भारतीय मूल की अमेरिकी फाइनेंसर पर शार्क ने किया हमला, मौत
Loading...
पूरी दुनिया में शार्क को बचाने के लिए इसके शिकार पर पाबंदी लगाई गई है. लेकिन मोटी कमाई होने के नाते इसकी तस्करी की जाती है. इन तस्करों ने 20 हजार से ज्यादा शार्क का शिकार करके करीब आठ हज़ार किलो फिन जमा कर रखा था. डीआरआई का मानना है की यह एक इंटरनेशनल गैंग है जिसके तार विदेशों तक फैले है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर