शिवसेना ने सचिन पायलट और बीजेपी पर साधा निशाना, सामना में लिखा- बगावत के पीछे नैतिकता कम और पैसों का खेल ज्यादा
Jaipur News in Hindi

शिवसेना ने सचिन पायलट और बीजेपी पर साधा निशाना, सामना में लिखा- बगावत के पीछे नैतिकता कम और पैसों का खेल ज्यादा
सचिन पायलट (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

शिवसेना (Shiv Sena) के मुताबिक, कांग्रेस और अशोक गहलोत ने सचिन पायलट और बीजेपी का सारा प्लान फेल कर दिया. सामना में लिखा है, 'मुख्यमंत्री गहलोत ने उस झूठ का पर्दाफाश कर दिया, जिसे सचिन पायलट ने अन्याय के विरुद्ध बगावत की उपमा दी थी.

  • Share this:
मुंबई. राजस्थान में जारी सियासी घमासान में अब शिवसेना (Shiv Sena) भी कूद पड़ी है. पार्टी ने अपने मुखपत्र सामना (Saamana) में राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) और बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है. इसमें लिखा है कि सचिन पायलट ने जो भारतीय जनता पार्टी से जोड़-तोड़ शुरू थी, वो पैसों के लेन-देन की तक पहुंच गई. गहलोत सरकार गिराने के लिए केंद्रीय सत्ता का दबाव और पैसों का इस्तेमाल हुआ.

'गहलोत ने फेल किया प्लान'
शिवसेना के मुताबिक कांग्रेस और अशोक गहलोत ने सचिन पायलट और बीजेपी का सारा प्लान फेल कर दिया. सामना में लिखा है, 'मुख्यमंत्री गहलोत ने उस झूठ का पर्दाफाश कर दिया, जिसे सचिन पायलट ने अन्याय के विरुद्ध बगावत की उपमा दी थी. वे इसके लिए पायलट और भाजपा नेताओं की फोन टैपिंग को सामने लाए. ये सनसनीखेज है. गहलोत सरकार गिराने के लिए केंद्रीय सत्ता का दबाव और पैसों का प्रयोग हुआ. कांग्रेस ने उसे नेस्तनाबूद कर दिया.'

'बगावत के पीछे नैतिकता नहीं'
सामना के मुताबिक सचिन पायलट के बगावत के पीछे नैतिकता नहीं थी. अखबार ने लिखा है, 'सचिन पायलट की बगावत के पीछे नैतिकता कम और पैसों की कामना ज्यादा थी. ये जनता और लोकतंत्र से विद्रोह है. यह भ्रष्टाचार है. गहलोत सरकार ने सबूतों के आधार पर भाजपा के एक नेता और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के खिलाफ मामला दर्ज किया है. लेकिन भाजपा इस बारे में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है.'




शेखावत पर भी निशाना
शिवसेना के मुखपत्र सामना ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर भी जम कर हमले किए हैं. लिखा है, 'राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करनेवालों से उनके केंद्रीय मंत्रियों का इस्तीफा क्यों नहीं लिया गया? पहले गजेंद्र शेखावत का इस्तीफा लो. विधायकों की खरीद-फरोख्त के अपराध का प्रायश्चित करवाओ, उसके बाद ही गहलोत सरकार की ओर उंगली दिखाओ. पायलट की बगावत का मामला फंस जाने से भाजपा की करतूत सामने आ गई है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज