Home /News /maharashtra /

shiv sena national executive meeting uddhav thackeray says nobody else can use bal thackeray name

'कोई भी बालासाहेब ठाकरे और पार्टी के नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकता' : शिवसेना में 3 बड़े प्रस्ताव पारित

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फाइल फोटो)

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे 37 शिवसेना विधायकों और 10 निर्दलीय विधायकों के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं. शिंदे ने शुक्रवार को कहा कि कोई भी राष्ट्रीय दल उनके संपर्क में नहीं है.

मुंबई. महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच यहां शिवसेना मुख्यालय में शनिवार को राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक हुई, जहां तीन बड़े प्रस्ताव पारित किये गए. सूत्रों के अनुसार पहले प्रस्ताव में कहा गया है कि शिवसेना में सभी तरह के निर्णय लेने के सभी अधिकार पार्टी के प्रमुख उद्धव ठाकरे के पास रहेंगे, जबकि दूसरे प्रस्ताव में किसी के भी द्वारा बालासाहेब ठाकरे और शिवसेना के नाम का इस्तेमाल करने पर रोक लगाई गई है. इसी तरह से, तीसरा प्रस्ताव कहता है कि पार्टी में गद्दारी करने वालों पर कार्रवाई करने का भी अधिकार पार्टी प्रमुख के पास ही रहेगा. इन सभी प्रस्तावों को सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया है. कार्यसमिति की बैठक के दौरान  उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी का गठबंधन है और चल रहा है. इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि भाजपा से हाथ मिलाने का सवाल ही नहीं है.

बैठक के बारे में जानकारी देते हुए शिवसेना के प्रवक्ता आनंद दूबे ने बालासाहेब ठाकरे का नाम इस्तेमाल करने को लेकर एकनाथ शिंदे पर हमला बोला और कहा कि वे किसी और के पिता के नाम का उपयोग कैसे कर सकते हैं. उन्होंने इसे बेशर्मी करार दिया है और शिंदे से कहा, “ये आपका कैसा चरित्र है कि आप दूसरे के पिता का नाम ले लेंगे, अपने पिता का नाम लीजिए ना.” प्रवक्ता ने आगे कहा, “शिव सेना के सैनिकों का आक्रोश भड़कना स्वाभाविक है. उनका गुस्सा वाजिब है. चार दिन चुप रहे, लेकिन अब जो सैनिक भावनात्मक रूप से जुड़े हैं उनका गुस्सा बढ़ रहा है, लेकिन हम कानून-व्यवस्था भी बनाकर रखेंगे क्योंकि वो भी हमारी सरकार की जिम्मेदारी है.”

‘बालासाहेब ठाकरे की हिंदुत्व विचारधारा का पालन करेगी शिवसेना’

वहीं, शिवसेना नेता संजय राउत ने बताया कि बैठक में 6 प्रस्ताव पारित किए गए हैं और तय किया है कि शिवसेना बालासाहेब ठाकरे की हिंदुत्व विचारधारा का पालन करेगी और संयुक्त महाराष्ट्र की विचारधारा से समझौता नहीं करेगी. राउत ने कहा, “सीएम उद्धव ठाकरे ने बैठक में कहा है कि जिन नेताओं ने शिवसेना छोड़ दी है, उन्हें शिवसेना और बालासाहेब ठाकरे के नाम पर वोट नहीं मांगना चाहिए. अपने पिता के नाम पर वोट मांगो. महाविकास अघाड़ी एकजुट है.” उन्होंने आगे कहा, “हम उन लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे जिन्होंने अपनी राजनीति के लिए बालासाहेब ठाकरे के नाम का इस्तेमाल किया है.”

‘पार्टी के साथ धोखा देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो’

बागी विधायकों पर निशाना साधते हुए शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि पार्टी से गद्दारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पास पार्टी छोड़कर गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार है.” बागी विधायकों के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाएगी? इस सवाल के जवाब में राउत ने कहा, “लोगों को पता चल जाएगा कि शाम तक पार्टी छोड़ने वालों के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाएगी. सीएम उद्धव ठाकरे ने जो काम किया है वह काबिले तारीफ है. हम सब उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ेंगे.”

Tags: Shiv sena, Uddhav thackeray

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर