शिवसेना तो आजादी की लड़ाई का हिस्सा नहीं ही थी, लेकिन RSS भी उसमें शामिल नहीं था: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे (File pic)

उद्धव ठाकरे (File pic)

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बुधवार को भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि सिर्फ भारत माता की जय बोल देना ही भाजपा को देशभक्त नहीं बना देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 3, 2021, 11:35 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Maharashtra's CM Uddhav Thackeray) ने बुधवार को भाजपा (BJP) पर तंज कसते हुए कहा कि शिवसेना (Shivsena) अगर आजादी की लड़ाई में शामिल नहीं थी तो आपका मूल संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) भी इसका हिस्सा नहीं था. सिर्फ भारत माता की जय बोल देना ही भाजपा को देशभक्त नहीं बना देगा. ठाकरे के बयान पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री को पता नहीं कि आरएसएस के संस्थापर हेडगेवार स्वतंत्रता सेनानी थे.

ठाकरे ने विधानसभा में हिंदुत्व से लेकर दिल्ली सीमा पर जारी किसानों आंदोलन जैसे विभिन्न मुद्दों को लेकर भाजपा की आलोचना की. ठाकरे ने विधानसभा में कहा कि केंद्र सरकार ने हिंदुत्व के विचारक विनायक दामोदर सावरकर को भारत रत्न का सम्मान क्यों नहीं दिया. उन्होंने कहा कि भाजपा को अपनी पूर्व सहयोगी शिवसेना को हिंदुत्व का पाठ नहीं पढ़ाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- हरियाणा में निजी क्षेत्र में मिलेगा आरक्षण, CII बोला- फिर से करिए विचार



औरंगाबाद का नाम बदलने के मुद्दे पर दिया ये जवाब
भाजपा ने शिवसेना पर निशाना साधते हुए कई बार कहा है कि पार्टी ने कांग्रेस और राकांपा के साथ गठबंधन करने के बाद हिंदुत्व की विचारधारा को ‘त्याग’ दिया है. औरंगाबाद का नाम बदलने में देरी पर भी विपक्षी दल ने महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधा है.

ठाकरे ने कहा, ‘‘सावरकर को भारत रत्न देने की मांग के लिए (केंद्र को) दो बार चिट्ठी भेजी गयी. भारत रत्न कौन देता है? प्रधानमंत्री और एक कमेटी के पास इसका अधिकार है.’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘आप सावरकर को भारत रत्न नहीं देते और हमें शहर का नाम बदलने पर पाठ पढ़ा रहे हैं.’’ साथ ही कहा कि औरंगाबाद का नाम जरूर बदलेगा.

ये भी पढ़ें- IT रेड के बाद स्वरा ने तापसी को बताया साहसी, बोलीं- स्टैंड स्ट्रांग वारियर

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘सीमा पर जो तारबंदी करनी चाहिए वह किसानों और दिल्ली के बीच खड़ी कर दी गयी. अगर (सीमा पर) ऐसी व्यवस्था की जाती तो चीन घुसपैठ नहीं करता.’’ उन्होंने कहा कि दिल्ली सीमाओं के पास किसानों के प्रदर्शन स्थल के रास्ते में कंटीले तार लगा दिए गए, बिजली और पानी की आपूर्ति रोक दी गयी. उन्होंने सवाल किया कि क्या प्रदर्शन कर रहे किसान आतंकवादी है. ठाकरे ने कहा कि देश भाजपा की ‘‘निजी जागीर’’ नहीं है.

उन्होंने कहा कि भाजपा को महाराष्ट्र से विदर्भ को अलग करने की सोचना भी छोड़ देना चाहिए. ठाकरे ने कहा, ‘‘हम विदर्भ को महाराष्ट्र से अलग नहीं होने देंगे.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज