Home /News /maharashtra /

स्पर्म डोनर का नाम पता न बताने की याचिका

स्पर्म डोनर का नाम पता न बताने की याचिका

ऐसी होगी दूसरी प्रतियोगिता: इसमें आपको आयुषमान भारत के तहत बनने वाले हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के लिए नाम सुझाना होगा. आपकी तरफ से तैयार नाम भारत कॉपीराइट अधिनियम,1957 के किसी भी प्रावधान का उल्लंघन नहीं करना चाहिए. आप अपनी एंट्री हिंदी और अंग्रेजी में जमा कर सकते हैं.

ऐसी होगी दूसरी प्रतियोगिता: इसमें आपको आयुषमान भारत के तहत बनने वाले हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के लिए नाम सुझाना होगा. आपकी तरफ से तैयार नाम भारत कॉपीराइट अधिनियम,1957 के किसी भी प्रावधान का उल्लंघन नहीं करना चाहिए. आप अपनी एंट्री हिंदी और अंग्रेजी में जमा कर सकते हैं.

सिंगल मदर ने बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका डाली है कि वह स्पर्म देने वाले शख्स के नाम का खुलासा ना करे.

    सिंगल मदर ने बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका डाली है कि वह स्पर्म देने वाले शख्स के नाम का खुलासा ना करे.
    मुंबई के नालासोपारा में रहने वाली एक 31 साल की महिला ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. उस महिला की स्पर्म डोनर से एक बेटी है. उस महिला की अर्जी है कि बच्ची का बर्थ सर्टिफिकेट में उसके पिता का नाम ना डाला जाए.

    सिंगल मदर का कहना है कि वह स्पर्म देने वाले शख्स के नाम का खुलासा नहीं करना चाहती है. उनके वकील उदय वारूनजिकर ने जस्टिस अभय ओका और जस्टिस प्रदीप देशमुख की पीठ को कहा, 'यह एक टेस्ट ट्यूब बेबी है. स्पर्म एक अनजान व्यक्ति का है.' उन्होंने कोर्ट से कहा है कि बर्थ सर्टिफिकेट में पिता के नाम की जरूरत खत्म कर देनी चाहिए.

    अपनी याचिका में महिला ने कहा कि उसकी शादी नहीं हुई है. अगस्त 2016 में उस महिला ने एक बेटी को जन्म दिया था. उन्होंने कहा कि वह अपनी बेटी का ख्याल रख सकती हैं. याचिका दायर करने वाली महिला का कहना है कि पिता का नाम रिकॉर्ड में नहीं आना चाहिए.

     

     

    Tags: Bombay high court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर