मालेगांव ब्लास्ट केस: NIA की विशेष अदालत से प्रज्ञा ठाकुर की अर्जी खारिज

एनआईए अदालत ने उनकी अदालत में एक सप्ताह में एक बार उपस्थित होने से स्थायी छूट के आवेदन को खारिज कर दिया है.

News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 4:20 PM IST
मालेगांव ब्लास्ट केस: NIA की विशेष अदालत से प्रज्ञा ठाकुर की अर्जी खारिज
भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर की अर्जी कोर्ट ने की खारिज. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 4:20 PM IST
भोपाल की नवनिर्वाचित भाजपा सांसद और मालेगांव ब्लास्ट केस की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को एनआईए की विशेष अदालत से झटका लगा है. मुंबई की विशेष एनआईए अदालत ने साध्वी को एक सप्ताह में एक बार पेश होने से स्थायी छूट के आवेदन को खारिज कर दिया है.

प्रज्ञा ठाकुर ने छूट के लिए कोर्ट में आवेदन देते हुए कहा था कि वो सांसद हैं और उन्हें दिन-प्रतिदिन संसद की कार्यवाही में हिस्सा लेना होता है. हालांकि कोर्ट ने उन्हें सिर्फ एक दिन के लिए गुरुवार (20 जून) के लिए अदालत में पेशी से छूट दे दी है.



बता दें कि मालेगांव ब्लास्ट केस में प्रज्ञा ठाकुर को सप्ताह में एक बार मुंबई में एनआईए की विशेष अदालत में पेशी के लिए जाना होता है.
Loading...

यह था मामला
महाराष्ट्र के मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को धमाका हुआ था. ब्लास्ट के लिए मोटर साइकिल में बम लगाया गया था. इस आतंकी हमले में 7 लोग मारे गए थे और 100 से अधिक लोग घायल हुए थे. शुरुआत में इस घटना की जांच महाराष्ट्र पुलिस की एटीएस ने की थी. बाद में यह मामला जांच के लिए एनआईए को सौंप दिया गया था.

एनआईए ने अपनी जांच में पाया कि घटना की साजिश अप्रैल 2008 में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रची गई थी. जबकि 24 अक्टूबर, 2008 को इस मामले में स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित और प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार किया गया था. जबकि 3 आरोपी फरार दिखाए गए थे.

प्रज्ञा ठाकुर की गिरफ्तारी का आधार ब्लास्ट में उपयोग की गई मोटरसाइकिल थी. यह मोटरसाइकिल उनके (प्रज्ञा ठाकुर) नाम रजिस्टर्ड थी. प्रज्ञा ठाकुर लगभग 9 साल तक जेल में रहीं. जिसके बाद अप्रैल 2017 में उन्हें कोर्ट से सशर्त जमानत मिल गई थी.

अब तक 5 लोगों को मिली जमानत
मालेगांव ब्लास्ट मामले में कुछ दिन पहले बॉम्बे हाईकोर्ट में हुई सुनवाई में 4 आरोपियों को जमानत दे दी गई. जिन 4 लोगों को हाईकोर्ट से जमानत मिली है उनमें लोकेश शर्मा, धन सिंह, राजेंद्र चौधरी और मनोहर नारवरिया शामिल हैं. कोर्ट ने इन चारों आरोपियों को 50 हजार के मुचलके पर जमानत दी. जबकि इस मामले में बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पहले ही जमानत मिल चुकी है.

ये भी पढ़ें-CM योगी का चीनी मिल मालिकों को फरमान, अगस्‍त तक करें गन्‍ना किसानों का भुगतान

BJP सांसद के निशाने पर कांग्रेस-AAP, कहा- वोटबैंक के लिए कर रही हैं बढ़ती मस्जिदों की अनदेखी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए विदिशा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 2:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...