कोरोना काल में सावधानियों के साथ फिर शुरू कोठों पर धंधा, इनके लिए बने SOP में नहाना भी शामिल
Maharashtra News in Hindi

कोरोना काल में सावधानियों के साथ फिर शुरू कोठों पर धंधा, इनके लिए बने SOP में नहाना भी शामिल
पुणे के पेठ में बने रेड लाइट एरिया में क़रीब 3000 सेक्स वर्कर हैं. (PTI फोटो)

पुणे के पेठ में बने रेड लाइट एरिया (Red Light Area) में क़रीब 3000 सेक्स वर्कर (Sex Workers) हैं. पुणे देश में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित होने वाले शहरों में शामिल है. यहां 1.8 लाख कोरोना (Coronavirus Cases) के मरीज़ हैं. दुनिया के शेष हिस्सों की तरह ही, इस महामारी ने यहां के लोगों की जीवन शैली को भी बदल दिया है. कोरोना महामारी ने देश के तीसरे सबसे बड़े रेड लाइट एरिया पुणे के इस बुधवार पेठ को बदलने के लिए बाध्य कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 3:32 PM IST
  • Share this:
(स्वाती लोखंडे)

कोविड-19 (Coronavirus Pandemic) ने समाज में कई सारे बदलाव लाए हैं. आपने यह तो सुना होगा कि वेश्यालयों में कॉन्डम जरूरी है, पर कोरोना के इस समय में यौन संबंध बनाने के दौरान मास्क और ग्लव्ज़ लगाए रखने को भी ज़रूरी कर दिया गया है. ग्राहकों को कहा गया है कि वे सैनिटाइजर और डिसिन्फ़ेक्टेंट का प्रयोग करें. कुछ सेक्स वर्करों (Sex Workers) ने थर्मल स्कैनर और पैर से चलाया जानेवाले सैनिटाइज़र डिस्पेंसर भी ख़रीद लिये हैं. उन्हें अपने घर के बाहर रख दिया है. यह सुझाव भी दिया गया है कि ग्राहक को पहले नहाने के लिए कहा जाए और ऐसे किसी ग्राहक को नहीं आने दिया जाए जिसे खांसी या बुखार है.

पुणे के पेठ में बने रेड लाइट एरिया में, क़रीब 3000 सेक्स वर्कर हैं. पुणे देश में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित होने वाले शहरों में शामिल है. यहां 1.8 लाख कोरोना के मरीज़ हैं. दुनिया के शेष हिस्सों की तरह ही, इस महामारी ने यहां के लोगों की जीवन शैली को भी बदल दिया है. कोरोना महामारी ने देश के तीसरे सबसे बड़े रेड लाइट एरिया पुणे के इस बुधवार पेठ को बदलने के लिए बाध्य कर दिया है.



केंद्र ने हाईकोर्ट में समलैंगिकों की शादी का किया विरोध, 21 अक्टूबर को सुनवाई
प्रशासन, एनजीओ और यहाँ रहनेवाले सेक्स वर्कर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ज़रूरी कदम उठा रहे हैं. लॉकडाउन की घोषणा के चार महीने बाद तक यहां एक भी मामला नहीं हुआ, पर पिछले कुछ दिनों में 40 से अधिक मामलों की पहचान हुई है. हालांकि, अब सिर्फ़ 15 सक्रिय मामले ही रह गए हैं और अच्छी बात यह है कि किसी की मौत नहीं हुई है.

जैसे ही शहर में लॉकडाउन लागू हुआ, इस क्षेत्र को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया. रेड लाइट एरिया को जानेवाली सभी सड़कों को बंद कर दिया गया. पुलिसवालों को वहां 24 घंटे पहरे पर बिठा दिया गया. यहां पर जो देह व्यापार होता था वह पूरी तरह बंद हो गया. इसके साथ-साथ यहां के एक-एक घर को सैनिटाइज किया गया. यहां रहने वाली अधिकांश महिलाओं और उनके परिवार के सदस्यों की जांच की गई. अगर इनमें कोई लक्षण पाया गया तो उन्हें तुरंत दवा दी गई. जो महिलाएं बुधवार पेठ से अपने घर जाना चाहती थीं, उनके लिए ज़रूरी प्रबंध किया गया.


इस क्षेत्र में भीड़भाड़ को देखते हुए, यहां रहने वालों के लिए मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया है. नियमों को कड़ाई से लागू करने के लिए निगम की टीम इस क्षेत्र का दौरा करती है. नियम का उल्लंघन करनेवालों पर जुर्माना लगाती है. इसका परिणाम यह हुआ है कि भीड़भाड़ वाला क्षेत्र होने के बावजूद, अभी तक इस क्षेत्र में बहुत ही कम मामले सामने आए हैं.

अनलॉक-1 के तुरंत बाद, कुछ नियमों के साथ यहां धंधा फिर से शुरू करने की अनुमति दी गई. पर जुलाई के अंतिम सप्ताह में इसे 15 दिनों के लिए बंद करना पड़ा, क्योंकि यहां पांच पॉज़िटिव मामले पाए गए. अब यहां स्थिति दोबारा सामान्य हो गई है. एनजीओ ‘सहेली संघ’ ने जो यहां सर्वेक्षण किया है, उससे पता चला है कि अधिकतर सेक्स वर्कर काम पर वापस आ चुकी हैं. एनजीओ ने निगम के अधिकारियों के साथ मिलकर इस क्षेत्र के लिए एक विशेष एसओपी तैयार किया है. सर्वाधिक एहतियात बरतने के लिए उन्हें ऑडिओ-विज़ुअल के माध्यम से भी प्रशिक्षित करने की व्यवस्था है.

ये भी पढ़ें:- दिल्ली: झुग्गियों में रहने वाले लोगों का छलका दर्द, बोले- कोई तो बताए अब हम कहां जाएं?

सेक्स वर्करों के लिए जो एसओपी बनाए गए हैं उनमें कोविड-19 के प्रारंभिक लक्षणों की पहचान करने से लेकर सैनिटाइज़र, मास्क और ग्लव्ज़ का प्रयोग कॉन्डम की तरह ही अब ज़रूरी हो गए हैं. ग्राहक के आने और जाने के बाद कौन से कदम उठाने हैं उसका ब्योरा है. कुछ वेश्यालयों ने थर्मल स्कैनर भी ख़रीद लिया है, ताकि ग्राहकों के शरीर का तापमान मालूम किया जा सके. इनमें से कुछ अब अपना धंधा शुरू करना चाहते हैं और यहां तक कि ‘फ़ोन सेक्स’ के विकल्प की तलाश पर भी ग़ौर किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading