लाइव टीवी

कंज्यूमर कोर्ट का आदेश- गलत बिल के लिए 35 हजार रुपए का मुआवजा दे बिजली कंपनी

News18Hindi
Updated: October 9, 2019, 10:37 PM IST
कंज्यूमर कोर्ट का आदेश- गलत बिल के लिए 35 हजार रुपए का मुआवजा दे बिजली कंपनी
ठाणे जिले की कंज्यूमर कोर्ट ने एक बिजली वितरण कंपनी को आदेश दिया है कि वह एक उपभोक्ता को गलत बिल भेजने के लिये 35 हजार रुपए का मुआवजा प्रदान करे.

महाराष्ट्र (Maharashtra) में ठाणे (Thane) जिले की कंज्यूमर कोर्ट (Consumer Court) ने एक बिजली वितरण कंपनी को आदेश दिया है कि वह एक उपभोक्ता को गलत बिल भेजने के लिये 35 हजार रुपए (35 thousand) का मुआवजा (Compensation) प्रदान करे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 9, 2019, 10:37 PM IST
  • Share this:
ठाणे. महाराष्ट्र (Maharashtra) में ठाणे (Thane) जिले की कंज्यूमर कोर्ट (Consumer Court) ने एक बिजली वितरण कंपनी को आदेश दिया है कि वह एक उपभोक्ता को गलत बिल भेजने के लिये 35 हजार रुपए (35 thousand) का मुआवजा (Compensation) प्रदान करे. कोर्ट ने वर्ष 2008 के इस मामले में कहा कि कंपनी की सेवाओं में खामी के चलते शिकायकर्ता को हुई मानसिक परेशानी के लिए उसे उचित मुआवजा मिलना चाहिए.

एस डी मडाके की अध्यक्षता वाले उपभोक्ता विवाद निवारण मंच ने सात अक्टूबर के अपने आदेश में टोरेंट पॉवर लिमिटेड को यह भी निर्देश दिया कि वह भिवंडी के कामतघर निवासी शिकायतकर्ता राजेंद्र जैन के फ्लैट की काटी गई बिजली दोबारा शुरू करे.

दूसरा फ्लैट किराए पर लेने को हुए मजबूर
उपभोक्ता मंच ने जैन की इस शिकायत को माना कि कंपनी ने उसे 19 अप्रैल 2008 को गलत बिल जारी किया था और कहा था कि मीटर नंबर उससे (शिकायतकर्ता) संबंधित नहीं है. जैन ने कहा कि कंपनी द्वारा बिजली आपूर्ति काटे जाने पर उन्हें किराए पर दूसरा फ्लैट लेने को मजबूर होना पड़ा. बिजली कंपनी ने आरोपों से इनकार किया और तीन लाख तीस हजार रुपए के मुआवजा आवेदन का विरोध किया.

बिजली काटने से पहले नोटिस जारी किया जाए
कंज्यूमर कोर्ट ने कहा कि प्रतिवादी (टोरेंट पॉवर) का दायित्व है कि वह किसी उपभोक्ता की बिजली काटने से पहले उसे नोटिस जारी करे. प्रतिवादी ने सिर्फ यह कहा कि बिजली कानूनी तरीके से काटी गई, लेकिन यह उल्लेख नहीं किया कि क्या बिजली काटने से पहले नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों का पालन किया गया. अदालत ने टोरेंट पॉवर कंपनी लिमिटेड को निर्देश दिया वह उपभोक्ता को 35 हजार रुपए प्रदान करे जिसमें 25 हजार रुपए का मुआवजा और 10 हजार रुपए का जुर्माना शामिल है.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

विमानन घोटाला: यास्मीन को नहीं मिली राहत, कोर्ट ने 9 दिन बढ़ाई ED की रिमांड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 9:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...