ठाणे पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 100 किलो गांजे के साथ ड्रग्स पेडलर को किया गिरफ्तार

महात्मा फुले पुलिस स्टेशन की टीम ने बिरला कॉलेज के पास बने शौचालय के पास ट्रैप लगाया था.

महात्मा फुले पुलिस स्टेशन की टीम ने बिरला कॉलेज के पास बने शौचालय के पास ट्रैप लगाया था.

Drugs Peddler Arrested: आरोपी की गाड़ी से करीब 100 किलो गांजा मिला, जिसकी बाजार कीमत करीब 18 लाख रुपये से ज्यादा बताई जा रही है. पुलिस के मुताबिक आरोपी गांजे की यह खेप गुजरात (Gujarat) से लेकर मुंबई आया था.

  • Share this:
ठाणे. मुंबई (Mumbai) से सटे ठाणे की पुलिस ने एक ऐसे ड्रग्स पेडलर (Drugs Peddler) को गिरफ्तार किया है जिसके पास से एक-दो नही, बल्कि 100 किलो गांजा बरामद किया गया है. गिरफ्तार किए गए ड्रग्स पेडलर का नाम विजयकुमार सूर्यमन पटेल (Vijaykumar Suryaman Patel) बताया जा रहा है और वह गुजरात का रहने वाला है. ठाणे पुलिस के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त दत्ता कराले ने बताया कि ठाणे की महात्मा फुले पुलिस स्टेशन को अपने खुफिया सूत्रों से गांजा सप्लाई होने की जानकारी मिलने के बाद जाल बिछाया गया था और जैसे ही आरोपी वहां पहुंचा तो उसे 100 किलो गांजे के साथ गिरफ्तार किया कर लिया गया. फिलहाल उससे पूछताछ जारी है.

ठाणे पुलिस के आला अधिकारियों के अनुसार महात्मा फुले पुलिस स्टेशन के सहायक पुलिस निरीक्षक दीपक सरोदे को खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी मिली थी कि बिरला कॉलेज के पास गांजे की एक बड़ी खेप तस्करी के लिए आने वाली है. जानकारी के पुख्ता होने के बाद महात्मा फुले पुलिस स्टेशन की टीम ने बिरला कॉलेज के पास बने शौचालय के पास ट्रैप लगाया.

यह भी पढ़ें- दिल्ली : बॉलीवुड फिल्मों से प्रेरित होकर हकला बना था ड्रग्स सप्लायर, साथी के संग गिरफ्तार



कुछ देर तक इंतजार करने के बाद पुलिस की टीम को एक क्वालिस कार आती दिखी. शक के आधार पर पुलिस की टीम ने कार को जब रोकने की कोशिश की तो वह भागने लगा. जिसके बाद पुलिस की टीम ने उसका पीछा करके आरोपी विजयकुमार सूर्यमन पटेल को गिरफ्तार कर लिया. इस गिरफ्तारी के बाद जब गाड़ी की तलाशी ली गई तो पुलिस भी चौंक गई.

आरोपी की गाड़ी से करीब 100 किलो गांजा मिला, जिसकी बाजार कीमत करीब 18 लाख रुपये से ज्यादा बताई जा रही है. पुलिस के मुताबिक आरोपी गांजे की यह खेप गुजरात से लेकर मुंबई आया था, लेकिन इसकी सप्लाई कहां-कहां होनी थी और इसके किसके पास दिया जाना था, इसकी जांच में पुलिस की टीम जुटी हुई है. पुलिस को इसके पीछे एक बड़े गिरोह के होने का शक है और इसी आधार पर वह अपनी जांच को आगे बढ़ा रही है. गिरफ्तार किए गए आरोपी की 12 मार्च तक पुलिस को रिमांड मिली है और उससे पूछताछ कर गिरोह तक पहुंचने की कोशिश में जुटी हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज