मुंबई केस में उद्धव सरकार किसी को बचाने की कोशिश नहीं कर रही, डिप्टी CM अजित पवार ने कहा

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार. (एएनआई)

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार. (एएनआई)

Mumbai News: दक्षिण मुंबई के पॉश इलाके में 25 फरवरी को एक 'स्कॉर्पियो' कार के अंदर जिलेटिन की छड़ें रखी हुई मिली थीं. पुलिस ने कहा था कि कार 18 फरवरी को एरोली-मुलुंद ब्रिज से चोरी हुई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 10:11 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उनकी सरकार दक्षिण मुंबई के पॉश इलाके से बरामद कार से जुड़े केस की सभी पहलुओं की जांच करेगी और किसी को बचाने की कोशिश नहीं की जा रही है. प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री अजित पवार ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर हुई बैठक में सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा है कि इस केस से संबंधित सभी लोगों की जांच होगी और महा विकास अघाड़ी सरकार में शामिल सभी पार्टियों ने इसके लिए अपनी रजामंदी दी है.

इसके साथ ही पवार ने कहा कि सरकार में सभी दल एकजुट होकर काम कर रहे हैं और किसी तरह का कोई भी मतभेद आपस में नहीं है. उन्होंने कहा, 'शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस और कांग्रेस एक होकर काम कर रहे हैं, हमारे बीच मतभेद नहीं है. सरकार किसी को बचाने की कोशिश करना नहीं चाहती है.'

Youtube Video




गौरतलब है कि दक्षिण मुंबई के पॉश इलाके में 25 फरवरी को एक 'स्कॉर्पियो' कार के अंदर जिलेटिन की छड़ें रखी हुई मिली थीं. पुलिस ने कहा था कि कार 18 फरवरी को एरोली-मुलुंद ब्रिज से चोरी हुई थी. महाराष्ट्र के आतंक रोधी दस्ते (एटीएस) ने आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 201 (साक्ष्य मिटाने) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

वाहन के मालिक हीरेन मनसुख 5 मार्च को ठाणे में मृत पाए गए थे. घटना की गंभीरता को देखते हुए एनआईए ने इस केस को अपने हाथों में ले लिया था, जिसने बाद में मुम्बई पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे को गिरफ्तार किया. मुम्बई पुलिस ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा सहायक पुलिस निरीक्षक वाजे को गिरफ्तार किए जाने के बाद उन्हें 15 मार्च को निलंबित कर दिया था.

(इनपुट भाषा से भी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज