जब बीमार उद्धव ठाकरे को हॉस्पिटल से मातोश्री गाड़ी से लेकर पहुंचे थे राज ठाकरे
Maharashtra News in Hindi

जब बीमार उद्धव ठाकरे को हॉस्पिटल से मातोश्री गाड़ी से लेकर पहुंचे थे राज ठाकरे
उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण में राज ठाकरे (raj thackeray) भी पहुंचे. (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र (Maharashtra) में नई सरकार के गठन के मौके पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (Maharashtra Navnirman Sena) के नेता राज ठाकरे (raj thackeray) भी पहुंचे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2019, 7:33 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति ने गुरुवार को नई करवट ली. उद्धव बालासाहेब ठाकरे (Uddhav Balasaheb Thackeray) ने मातोश्री (matoshree) से मंत्रालय तक का सफर तय कर ही लिया. शाम को 6.40 बजे जब उद्धव ठाकरे ने शपथ ली तो शिवाजी पार्क (Shiva jee park) में मौजूद शिवेसना, कांग्रेस और एनसीपी के समर्थकों का उत्साह देखते ही बन रहा था. इसी मौके पर एक और तस्वीर लोगों ने देखी जब मंच पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (Maharashtra Navnirman Sena)के अध्यक्ष राज ठाकरे (raj thackeray) पहुंचे.

माना जा रहा था कि मातोश्री से अलग हो कर नई राह अख्तियार करने वाले राज को शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित नहीं किया जाएगा हालांकि ऐसा नहीं हुआ. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो खुद उद्धव ने राज को फोन कर के आमंत्रित किया.

ऐसी केमेस्ट्री पहली बार देखने को नहीं मिली...
राज और उद्धव की यह केमेस्ट्री पहली बार देखने को नहीं मिली. इससे पहले करीब सात साल पहले शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे जब बीमार हुए तो उनसे मिलने खुद राज पहुंचे थे. यह घटना जुलाई 2012 की है जब सीने में दर्द की शिकायत के चलते उद्धव को लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
इस दौरान उद्धव से मिलने राज खुद लीलावती पहुंचे. इतना ही नहीं जब उद्धव को अस्पताल से छुट्टी मिली तो राज अपनी मर्सिडीज गाड़ी में उद्धव को मातोश्री लेकर गए थे. इस घटना के बाद से ही माना जा रहा था दोनों के बीच अदावत कम होनी शुरू हो गई है.



जब उद्धव भी पहुंचे राज की बेटी का हालचाल लेने
कुछ ऐसा ही वाकया साल 2014 यानी आज से पांच साल पहले हुआ था. साल 2014 के नवंबर में राज ठाकरे की बेटी उर्वशी ठाकरे एक सड़क हादसे में घायल हो गईं थीं. इस दौरान सियासी बतकही छोड़कर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे हिन्दुजा अस्पताल गए थे और करीब 45 मिनट तक वहां मौजूद थे.

बता दें यह वही साल था जब महाराष्ट्र नव निर्माण सेना ने चुनाव में शिवसेना से शिकस्त खाई थी. मनसे को सिर्फ 1 ही सीट मिल पाई थी.

यह भी पढ़ें: जानें किस तरह बाल ठाकरे ने शिवसेना को इतना मजबूत बना दिया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading