Home /News /maharashtra /

चलती बस में ड्राइवर को पड़ा दौरा, फिर महिला यात्री ने थामा स्टीयरिंग; पढ़ें आम नारी की वीरता की कहानी

चलती बस में ड्राइवर को पड़ा दौरा, फिर महिला यात्री ने थामा स्टीयरिंग; पढ़ें आम नारी की वीरता की कहानी

बाद में एक अन्य ड्राइवर मौके पर पहुंचा और बस को शिकारपुर अस्पताल ले जाया गया. इसके बाद महिलाओं को सुरक्षित वाघोली छोड़ा गया. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

बाद में एक अन्य ड्राइवर मौके पर पहुंचा और बस को शिकारपुर अस्पताल ले जाया गया. इसके बाद महिलाओं को सुरक्षित वाघोली छोड़ा गया. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Woman Passenger Drives Bus: बस रुकते ही ड्राइवर को दौरा पड़ गया. चालक की इस हालत को देखकर सभी महिलाएं हैरान रह गईं, लेकिन इनमें से एक महिला ने कमान संभाली और जीवन में पहली बार बस का स्टीयरिंग व्हील थामा. महिला का नाम योगिता साटव बताया जा रहा है. दरअसल, ड्राइवर को इलाज की जरूरत थी और साटव कार चलाना जानती हैं. ऐसे में उन्होंने बहादुरी से सफर तय करना शुरू किया औऱ 10 किमी दूर तक गानेगांव खालसा पहुंचे.

अधिक पढ़ें ...

पुणे. यात्रियों को मंजिल तक पहुंचाने वाला वाहन चालक अगर अचानक बीमार हो जाए, तो क्या होगा? इस सवाल का जवाब महाराष्ट्र (Maharashtra) की एक महिला की तरफ से लिए गए साहसिक फैसले में मिलता है. यहां एक महिला ने सवारियों से भरी हुई बस को न केवल सावधानी औऱ समझधारी से दौड़ाया, बल्कि बीमार ड्राइवर को भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई. अब इस मामले को विस्तार से समझते हैं-

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मामला 8 जनवरी का है. वाघोली की रहने वाली महिलाएं मोराची चिंचोली में पिकनिक के लिए गईं थी. दिन भर पिकनिक का मजा लेने के बाद जब सभी लोगों ने वापसी की तैयारी की और बस के जरिए घर का रास्ता तय करना शुरू किया. खबर है कि थोड़ी ही दूर बस चलाने के बाद 40 वर्षीय ड्राइवर में दौरे के लक्षण नजर आने लगे. पिकनिक की आयोजक महिला ने ड्राइवर को देखा और बस रोकने के लिए कहा.

यह भी पढ़ें: ट्विटर यूजर्स बांट रहे हैं जोमैटो कर्मचारी सलिल के परिवार का दुख, आर्थिक मदद के लिए जुटाए लाखों रुपये

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बस रुकते ही ड्राइवर को दौरा पड़ गया. चालक की इस हालत को देखकर सभी महिलाएं हैरान रह गईं, लेकिन इनमें से एक महिला ने कमान संभाली और जीवन में पहली बार बस का स्टीयरिंग व्हील थामा. महिला का नाम योगिता साटव बताया जा रहा है. दरअसल, ड्राइवर को इलाज की जरूरत थी और साटव कार चलाना जानती हैं. ऐसे में उन्होंने बहादुरी से सफर तय करना शुरू किया औऱ 10 किमी दूर तक गानेगांव खालसा पहुंचे.

इस दौरान ड्राइवर को दो बार दौरा पड़ चुका था. गानेगांव खालसा में बस चालक को शुरुआती उपचार मिला. हालांकि, बाद में एक अन्य ड्राइवर मौके पर पहुंचा और बस को शिकारपुर अस्पताल ले जाया गया. इसके बाद महिलाओं को सुरक्षित वाघोली छोड़ा गया.

Tags: Maharashtra

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर