CM ठाकरे ने दिए लॉकडाउन जैसी योजना बनाने के निर्देश; वर्क फ्रॉम होम समेत इन बातों पर फोकस

जिले में कोरोना वायरस संक्रमित 881 लोगों की मौत हुई है.(सांकेतिक फोटो)

जिले में कोरोना वायरस संक्रमित 881 लोगों की मौत हुई है.(सांकेतिक फोटो)

Covid-19 Cases in Maharashtra: मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा कि स्लम की तुलना में रिहायशी इमारतों में कोविड-19 संक्रमण के ज्यादा केस दर्ज किए जा रहे हैं. संक्रमण को रोकने के लिए सिर्फ आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 30, 2021, 11:30 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र में नाइट कर्फ्यू (Maharashtra Night Curfew) के पहले दिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि वह लॉकडाउन जैसी स्थिति (Lockdown like situation) की योजना बनाएं क्योंकि लोग कोविड संबंधी प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे हैं जिससे कि कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है. मुंबई में ही रविवार को पिछले साल मार्च में शुरू हुई इस महामारी के बाद से पहली बार सबसे अधिक 6,123 मामले दर्ज किए गए.

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा कि स्लम की तुलना में रिहायशी इमारतों में कोविड-19 संक्रमण के ज्यादा केस दर्ज किए जा रहे हैं. संक्रमण को रोकने के लिए सिर्फ आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी. पेडनेकर ने आगे कहा कि होटल, पब्स और शॉपिंग मॉल्स में नाइट कर्फ्यू के नियम लागू होंगे. इस संबंध में सीएम ठाकरे ने भी बैठक की.

ये भी पढ़ें- बाल रोग विशेषज्ञों को वैक्सीन लगाने की अनुमति देना कोरोना के खिलाफ बनेगा गेम चेंजर!



Youtube Video

सीएम ठाकरे की बैठक की प्रमुख बातें-

सीमित समय के लिए लॉकडाउन लगाने की योजना. इसके लिए मानक संचालन प्रक्रिया बनाई जाएगी, ताकि पूर्ण बंदी को लागू किया जा सके.

ऑक्सीजन की बिना रुके आपूर्ति

इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन पर फोकस, ताकि आईसीयू और वेंटीलेटर बढ़ सकें.

मेडिकल सेवाओं के लिए निजी डॉक्टरों की भर्ती

बुजुर्ग और दूसरी बीमारी से पीड़ित लोगों के इलाज को प्राथमिकता.

दूसरी बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा.

वहीं मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के अलावा अन्य अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कार्यबल के सदस्यों ने अगले 24 घंटों में राज्य में 40,000 नए मामले सामने आने को लेकर आशंका जाहिर की. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए राज्य में बिस्तरों, दवाओं और ऑक्सीजन की उपलब्धता समेत अन्य स्वास्थ्य संबंधी तैयारियों की समीक्षा की.

बयान के मुताबिक, कार्यबल ने संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए राज्य में सख्त लॉकडाउन लागू करने की सिफारिश की. इसके मुताबिक, बाद में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को लॉकडाउन लागू करने के संबंध में ऐसी विस्तृत योजना तैयार करने के निर्देश दिए ताकि इससे अर्थव्यवस्था कम से कम प्रभावित हो.

ये भी पढ़ें- संजय राउत ने देशमुख को बताया 'एक्सीडेंटल' गृह मंत्री, NCP ने किया पलटवार

बयान में मुख्यमंत्री के हवाले से कहा गया, ''लॉकडाउन की घोषणा होने पर लोगों के बीच किसी तरह के असमंजस की स्थिति नहीं होनी चाहिए.''

महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 35,726 नए मामले सामने आए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज