वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण के आखिर तक वापस आएंगे 1 लाख भारतीय

वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण के आखिर तक वापस आएंगे 1 लाख भारतीय
वंदे भारत मिशन का दूसरा चरण 13 जून को पूरा होगा.

वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) के पहले चरण की शुरुआत सात मई को हुई थी जो 15 मई तक चला था. इसमें सरकार ने 12 देशों से करीब 15 हजार भारतीयों को निकाला गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत सरकार (Government of India) विदेश में फंसे करीब 1 लाख भारतीय नागरिकों वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) के दूसरे चरण के आखिर तक को भारत वापस लेकर आएगी. गृह मंत्रालय (Home Ministry) के सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी.

वंदे भारत मिशन का दूसरा चरण 13 जून को पूरा होगा. विदेश में फंसे करीब 3,08,200 ने भारतीयों ने वापस लौटने के लिए खुद को पंजीकृत कराया है. भारतीय नौसेना (Indian Navy) श्रीलंका, मालदीव और ईरान में फंसे भारतीयों को चार बार में वापस लेकर आएगी. हाल ही में करीब 5000 भारतीय सड़क मार्ग से नेपाल और बांग्लादेश से वापस आए हैं.

दूसरे चरण में 60 देशों से वापस आएंगे 1 लाख भारतीय
पिछले सप्ताह सरकार ने 141 फ्लाइट्स को वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण को पूरा करने के लिए पश्चिमी एशियाई देशों में भेजा था. सरकार कोविड 19 के कारण दूसरे देशों में फंसे लोगों को भारत वापस लाने का काम कर रही है.
मिशन का दूसरा चरण पहले 22 मई को समाप्त होना था. हालांकि सरकार ने इसे 13 जून तक बढ़ा दिया. मिशन के दूसरे चरण में 60 देशों से एक लाख भारतीयों को वापस लाने का लक्ष्य है. मिशन का दूसरा चरण 17 मई को शुरू हुआ था. वंदे भारत मिशन के पहले चरण की शुरुआत सात मई को हुई थी जो 15 मई तक चला था. इसमें सरकार ने 12 देशों से करीब 15 हजार भारतीयों को निकाला गया.



भारत में क्वारंटीन में 23 लाख लोग
वहीं एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि कोविड-19 महामारी की वजह से लागू लॉकडाउन के दौरान विदेश से लौटे या देश में ही एक स्थान से दूसरे स्थान जाने वाले करीब 23 लाख लोग इस समय राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा बनाई गयी क्वारंटीन सुविधाओं में हैं. अधिकतर राज्य सरकारों और केंद्रशासित क्षेत्रों के प्रशासनों ने उनके क्षेत्र में बाहर से आने वालों के लिए कम से कम सात दिन के अनिवार्य क्वारंटीन का नियम बनाया है, वहीं कुछ राज्यों ने बाहर से आने वालों के लिए घर पर क्वारंटीन को अनिवार्य बनाया है.

एक आधिकारिक आकलन के मुताबिक, 26 मई की स्थिति के अनुसार, विभिन्न राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के क्वारंटीन सेंटर में कुल 22.81 लाख लोग हैं. 12 दिन पहले, 14 मई को यह आंकड़ा इससे आधा था और तब 11.95 लाख लोग क्वारंटीन में थे.

40 देशों से 30 हजार भारतीय आए हैं वापस
वंदे भारत मिशन के तहत अब तक करीब 40 देशों से लगभग 30 हजार भारतीय नागरिकों को सरकार वापस लाई है. सरकार की 60 देशों से करीब एक लाख भारतीयों को वापस लाने की योजना है. अभी जो लोग क्वारंटीन सेंटर में हैं, वे ट्रेनों, बसों या विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से अनेक राज्यों में पहुंचे हैं.

अधिकारी ने कहा कि सरकारी केंद्रों में क्वारंटीन में रहने वाले लोगों की संख्या हर पल बदल रही है क्योंकि 14 मई से पहले या उसके बाद कई लाख लोग सात या 14 दिन की क्वारंटीन अवधि पूरी करने के बाद अपने घर जा चुके हैं.

ये भी पढ़ें-
जानें कोरोना के दौर में भारत और अमेरिका के एयर ट्रेवल में क्या अंतर है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज