अपना शहर चुनें

States

चक्रवाती तूफान 'निवार हुआ भयानक: तमिलनाडु और पुडुचेरी में भूस्खलन का डर, सुरक्षित स्थान पर पहुंचाए गए 1 लाख लोग

चक्रवाती तूफान निवार के कारण तमिलनाडु-पुडुचेरी में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है.
चक्रवाती तूफान निवार के कारण तमिलनाडु-पुडुचेरी में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है.

Cyclone Nivar: एनडीआरएफ प्रमुख ने भूस्खलन की जानकारी देते हुए बताया कि दोनों राज्यों के लगभग 1 लाख से अधिक लोगों को संवेदनशील क्षेत्रों से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 9:09 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil Nadu) और पुडुचेरी के तटों से चक्रवाती तूफान निवार (Cyclone Nivar) आज रात या गुरुवार को टकरा सकता है. एनडीआरएफ (NDRF) ने कहा कि चक्रवाती तूफान की स्थिति तेजी से बदल रही है और यह 120 से 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाले अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है. एक तरफ चक्रवाती तूफान (Cyclonic storm) है तो दूसरी तरफ तमिलनाडु और पुडुचेरी के कई इलाकों में भूस्कलन की आशंका जताई जा रही है.

एनडीआरएफ प्रमुख ने भूस्खलन की जानकारी देते हुए बताया कि दोनों राज्यों के लगभग 1 लाख से अधिक लोगों को संवेदनशील क्षेत्रों से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान ने कहा कि निवार चक्रवात 26 नंवबर को सुबह 2 बजे के बाद टकराएगा. करीब एक लाख लोगों को तमिलनाडु से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है और करीब 1000 लोगों को पुडुचेरी से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

चक्रवाती तूफान निवार के अलर्ट की वजह से तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटीय इलाकों को खाली करा लिया गया है. साथ ही मछुआरों को समुद्र किनारे जाने पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है. दोनों राज्यों में लोगों से घरों  से बाहर नहीं निकलने और सुरक्षित रहने की अपील की जा रही है.




इन इलाकों से टकरा सकता है 'निवार'
आशंका जताई जा रही है कि तमिलनाडु के पुडुकोट्टाई, नागापट्टिनम, कुड्डालोर, विल्लुपुरम, थंजावुर, चेंगाल्पेट, अरियालुर, पेरमबलूर, कलाकुरुचि, तिरुवन्नामलाई और तिरुवल्लूर में तूफान का सबसे ज्यादा असर देखने को मिल सकता है. इसके अलावा पड़ोसी केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी और कराइकल को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है.

भारतीय मौसम विभाग के आशंका जताई है कि अगर निवार तूफान भयावह रूप लेता है तो इसका असर तमिलनाडु और पुडुचेरी के अलावा आंध्र प्रदेश, कर्नाटक का दक्षिणी अंदरुनी इलाका और ओडिशा के दक्षिणी इलाकों में भी अपना असर दिखा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज