होम /न्यूज /राष्ट्र /नासिक सेंट्रल जेल में 10-12 कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर किया जानलेवा हमला, एक की हालत गंभीर

नासिक सेंट्रल जेल में 10-12 कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर किया जानलेवा हमला, एक की हालत गंभीर

नासिक सेंट्रल जेल में कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर किया जानलेवा हमला (ANI)

नासिक सेंट्रल जेल में कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर किया जानलेवा हमला (ANI)

नासिक सेंट्रल जेल में 10-12 कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर अचानक जानलेवा हमला कर दिया. इस हमले में कुछ पुलिसवालों को गंभीर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नासिक सेंट्रल जेल में कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर किया जानलेवा हमला
कैदियों के जानलेवा हमले से 1 पुलिसकर्मी की हालत गंभीर
जानकारी के मुताबिक हमलावर कैदी एक ही बैरक में बंद थे

मुंबई. नासिक सेंट्रल जेल में 10-12 कैदियों ने पुलिसकर्मियों पर अचानक जानलेवा हमला कर दिया. इस हमले में कुछ पुलिसवालों को गंभीर चोटें आईं हैं. अभी तक सामने आई जानकारी के मुताबिक ये सभी कैदी एक ही बैरक में बंद थे. जब इन्हे अलग-अलग बैरकों में शिफ्ट किया जाने लगा तो इससे ये कैदी इतना नाराज और गुस्सा हो गए की शिफ्ट करने के लिए पहुंचे पुलिसकर्मियो पर पत्थरों से हमला कर दिया.

इसी दौरान एक पुलिसकर्मी इन कैदियों के हत्थे चढ़ गया. जिसे पत्थरों से और लात-घूसों से कैदियों ने बहुत बुरी तरह पीटा है. घायल पुलिसकर्मी की हालत गंभीर बताई जा रही है. इस हमले में जो पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुआ, उसका नाम प्रभुचरण पाटिल  है. उसे छुड़ाते समय  2 और जेलकर्मी भी जख्मी हो गए हैं. इन आरोपी कैदियों को एक महीने पहले पुणे की यरवदा जेल से नासिक लाया गया है.

गौरतलब है कि इसी जुलाई में नासिक रोड पुलिस ने नासिक रोड सेंट्रल जेल के आठ अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ हत्या के प्रयास और गंभीर चोट पहुंचाने के तहत दंडनीय अपराधों के लिए एफआईआर दर्ज की गई थी. ये एफआईआर नासिक के जिला और सेशन कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज की गई. पुलिस ने कहा कि ये एफआईआर आजीवन कारावास की सजा पाने वाले एक शख्स वेंसिल मिरांडा की पत्नी की शिकायत के बाद दर्ज की गई है.

महाराष्ट्र : एक्सप्रेस ट्रेन ने मालगाड़ी को टक्कर मारी, 4 पहिए पटरी से उतरे

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के मुताबिक मिरांडा की पत्नी ने कोर्ट में अपील करके कहा था कि उसके पति को जेल के आठ कर्मचारियों ने दिसम्बर 2016 में जमकर पीटा था. नासिक पुलिस ने कहा कि उनको मामले की जांच करने का पहला आदेश जुलाई 2017 में ही मिला था. लेकिन आरोपियों के सरकारी अधिकार होने के कारण एफआईआर दर्ज करने से पहले मामले की फाइल को सहायक लोक अभियोजक और तत्कालीन नगर पुलिस आयुक्त के पास भेजा गया था.

Tags: Central Jail, Nashik, Nashik Police, Prisoners

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें