लाइव टीवी

दावोस के बाद अब ASEAN में छाएंगे मोदी, गणतंत्र दिवस पर ये है प्लान

News18Hindi
Updated: January 24, 2018, 7:31 PM IST
दावोस के बाद अब ASEAN में छाएंगे मोदी, गणतंत्र दिवस पर ये है प्लान
आसियान-इंडिया समिट 2017 में पीएम मोदी (फाइल फोटो)

इस बार गणतंत्र दिवस पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर आसियान के 10 सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया गया है. 25 जनवरी से दिल्ली में इंडो-आसियान स्मारक सम्मेलन भी आयोजित होगा. इस समिट के लिए खास प्लान तैयार किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2018, 7:31 PM IST
  • Share this:
स्विटजरलैंड के शहर दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) के समिट में शानदार मौजूदगी के बाद पीएम मोदी एसोसिएशन ऑफ साउथ ईस्ट एशियन नेशंस (ASEAN) देशों को प्रभावित करने के लिए तैयार हैं. इस बार गणतंत्र दिवस पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर आसियान के 10 सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों को आमंत्रित किया गया है. 25 जनवरी से दिल्ली में इंडो-आसियान स्मारक सम्मेलन (Indo-ASEAN Commorative summit) भी आयोजित होगा. इस समिट के लिए खास प्लान तैयार किया गया है.

आसियान देशों के आपसी साझेदारी के 25 साल पूरे होने के मौके पर दिल्ली में भारत-आसियान स्मारक सम्मेलन का आयोजन हो रहा है. सम्मेलन के लिए आसियान के सदस्य देशों इंडोनेशिया, सिंगापुर, फिलीपींस, मलयेशिया, ब्रुनेई, थाइलैंड, कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम के राष्ट्राध्यक्ष भारत आ रहे हैं. वे 27 जनवरी तक भारत में रहेंगे.

ये है मोदी का प्लान
25 जनवरी (गुरुवार) को समिट की शुरुआत के बाद पीएम मोदी कंबोडिया के पीएम हुन सेन से द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. पीएम मोदी कंबोडिया के पीएम के अलावा थाईलैंड, सिंगापुर और ब्रुनेई के नेताओं के साथ भी बातचीत करेंगे. जबकि, शुक्रवार को गणतंत्र दिवस समारोह के बाद मोदी का इंडोनेशिया, लाओस और मलयेशिया के नेताओं के साथ मुलाकात का कार्यक्रम है.

क्या है समिट का एजेंडा?
भारत-आसियान स्मारक सम्मेलन का एजेंडा 'समुद्री सहयोग और सुरक्षा' रखा गया है. भारत और आसियान इस समिट में अपने क्षेत्र में घूमने की स्वतंत्र छूट और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के पालन के मुद्दे पर चर्चा करेंगे. समिट में साउथ चाइना सी में चीन के बढ़ते हस्तक्षेप पर भी चर्चा हो सकती है.

बहुत खास है इस बार का गणतंत्र दिवस समारोहआसियान देशों के राष्ट्राध्यक्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह में बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद रहेंगे. इस बार 68 साल पहले का इतिहास दोहराया जाएगा. दरअसल, 26 जनवरी 1950 को अपने पहले गणतंत्र दिवस पर भारत ने दक्षिण पूर्व एशिया के दिग्गज नेता और इंडोनेशिया के पहले राष्ट्रपति सुकर्णो को बतौर मुख्य अतिथि बुलाया था. आजादी के बाद भारत ने एक बार फिर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो को गणतंत्र दिवस पर आमंत्रित किया है.

गणतंत्र दिवस परेड में ये राष्ट्राध्यक्ष होंगे शामिल
इस बार गणतंत्र दिवस की परेड में म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो, सिंगापुर के पीएम ली सीन लूंग, फिलीपींस के रॉड्रिगो डूटर्ट, कंबोडिया के पीएम हुन सेन, लाओस के पीएम थोनगलोउन सिसोउलिथ और ब्रुनई के सुलतान हसनल बोल्किया, मलयेशिया के पीएम नजीब रजक, थाईलैंड के पीएम प्रयुत चान ओ चा, वियतनाम के पीएम गुयेन जुआन फक हिस्सा लेंगे.

ये भी पढ़ें:  भारतीय मूल के ISIS आतंकी को US ने घोषित किया 'ग्लोबल टेररिस्ट'

दावोस समिट से पहले पीएम मोदी ने बर्फबारी का उठाया लुत्फ! 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2018, 3:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर