अपना शहर चुनें

States

असम में जमी हुई मिलीं कोविशील्ड वैक्सीन की 1000 खुराकें, जांच के आदेश जारी

देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई है. (न्यूज़18 क्रिएटिव)
देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई है. (न्यूज़18 क्रिएटिव)

Covid-19 Vaccination: अधिकारियों के अनुसार, शनिवार को शुरू हुए राष्ट्रव्यापी कोविड -19 टीकाकरण अभियान के तहत कोविशील्ड और कोवैक्सीन को स्वास्थ्यकर्मियों को लगाया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 7:58 PM IST
  • Share this:
गुवाहाटी. असम स्वास्थ्य विभाग (Assam Health Department) ने सोविर मेडिकल कॉलेज अस्पताल (SMCH) में जमी हुए हालत में मिली कोविड -19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) कोविशील्ड (Covishield) की 1000 खुराक युक्त 100 शीशियां मिलने के बाद जांच के आदेश दिए हैं. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, असम के बराक वैली क्षेत्र के प्रमुख चिकित्सा संस्थान एसएमसीएच में वैक्सीन की खुराक के जम जाने की वजह कोल्ड चेन स्टोरेज की खराबी हो सकती है.

स्वास्थ्य सेवाएं (परिवार कल्याण) के निदेशक मुनींद्र नाथ नकाते ने कहा “हमें रिपोर्ट मिली है कि वैक्सीन की खुराक जम गई हैं. यह भंडारण में समस्या के कारण हो सकता है. इसका सटीक कारण पूरी तरह से जांच के बाद ही पता चलेगा, जिसका आदेश दिया गया है.” नकाते ने कहा कि जमी हुई खुराकों को उनकी प्रभावशीलता के बारे में जानने के लिए उनके परीक्षणों के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाएगा. उनकी ओर से किसी भी लापरवाही के लिए वरिष्ठ प्रशासनिक कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू की जा सकती है.

ये भी पढ़ें- वादा निभाएगा भारत, कल बांग्लादेश भेजे जाएंगे कोविशील्ड के 20 लाख मुफ्त डोज



पहले चरण में 1,90,000 स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगी वैक्सीन
अधिकारियों के अनुसार, शनिवार को शुरू हुए राष्ट्रव्यापी कोविड -19 टीकाकरण अभियान के तहत कोविशील्ड और कोवैक्सीन को स्वास्थ्यकर्मियों को लगाया जा रहा है. इन दोनों ही वैक्सीनों को स्टोर करने के लिए 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान की आवश्यकता है.

असम को पहले चरण में 190,000 स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण करने के लिए आवश्यक कुल 380,000 खुराकों में से कोविशील्ड की 201,500 और कोवैक्सीन की 20,000 खुराकें दी गईं थीं.

सोमवार तक राज्य भर में डॉक्टरों, नर्सों, अस्पताल के कर्मचारियों, लैब तकनीशियनों और एम्बुलेंस ड्राइवरों सहित 5,542 लोगों को टीका लगाया गया था. टीकाकरण (AEFI) के बाद किसी भी व्यक्ति में कोई गंभीर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पाया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज