अपना शहर चुनें

States

चारधाम यात्रा: अब तक 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत

उत्तराखंड में जारी चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में कई तीर्थयात्रियों के लिए चारधाम यात्रा अंतिम यात्रा साबित हुई।
उत्तराखंड में जारी चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में कई तीर्थयात्रियों के लिए चारधाम यात्रा अंतिम यात्रा साबित हुई।

उत्तराखंड में जारी चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में कई तीर्थयात्रियों के लिए चारधाम यात्रा अंतिम यात्रा साबित हुई।

  • Share this:
नई दिल्ली। उत्तराखंड में जारी चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में कई तीर्थयात्रियों के लिए चारधाम यात्रा अंतिम यात्रा साबित हुई। ग्यारह सौ किलोमीटर की इस यात्रा के दौरान ढाई से तीन हज़ार मीटर की ऊंचाई पर 32 किलोमीटर से ज्यादा पैदल सफर तय करना पड़ता है लेकिन पूरे मार्ग पर कोई हार्टकेयर इंस्टीट्यूट नहीं है।
उत्तराखंड की चारधाम यात्रा अब मोक्ष नहीं मौत की वजह बन रही है। हर साल देश-विदेश से लाखों श्रद्वालु बद्रीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री-यमुनोत्री की यात्रा करते हैं, लेकिन इस बार इस रूट पर करीब 33 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। सबसे ज्यादा मौतें हार्टअटैक से हुई हैं। ये मौतें यात्रा के रूट पर आने वाले टिहरी, देहरादून, चमोली और उत्तरकाशी जिलों में हुईं। टिहरी और चमोली जिलों में हार्टअटैक से दो-दो तो उत्तरकाशी में हार्टअटैक से 13 मौतें हुईं। एक यात्री की सड़क हादसे और दूसरे की नदी में ड़ूबने से मौत हो गई।
इमरजेंसी सर्विस 108 के आंकड़े देखें तो एक महीने में चारधाम यात्रा मार्ग पर 33 लोगों की हार्टअटैक से मौत हुई। दरअसल हार्टअटैक के उपचार के लिए जरूरी सुविधाएं ही मुहैया नहीं कराई गई थी। ऊंचाई बढ़ने के साथ हार्टअटैक का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन चारधाम यात्रा रूट पर चार जिलों में से सिर्फ उत्तरकाशी के जिला अस्पताल में ही कार्डियोलोजिस्ट मौजूद है। प्रशासन भी डॉक्टरों की कमी की बात मान रहा है।
उमाकांत पंवार (सचिव,स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण) ने बताया कि डॉक्टरों की कमी, हर ज़गह डॉक्टर नहीं लग सकते है। और विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी भी है।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज