बाढ़ का कहरः यूपी और बिहार में 109 लोगों की मौत, अगले 24 घंटे होंगे भारी

पटना के सखा मैदान इलाके में पानी भर जाने के बाद स्‍थानीय लोगों ने खाली ड्रमों की नाव बनाकर बच्चों और बुजुर्गों को सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया. (फोटोः पीटीआई)

मौसम विभाग (IMD) ने दी भारी बारिश की चेतावनी (Alert), दोनों ही सूबों में करोड़ाें की संपत्ति का नुकसान, कई ट्रेनें (Train) रद्द तो कुछ के रूट बदले.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    पटना/लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और बिहार (Bihar) में बाढ़ (Flood) ने लोगों की जान सांसत में ला रखी है. हालात यह हैं कि पिछले चार दिनों के अंतराल में यूपी में 80 और बिहार में 29 लोगों की मौत हो गई है. वहीं बड़ी संख्या में लोग लापता भी हैं. जानकारी के अनुसार यूपी में शनिवार को 26 और रविवार दोपहर तक 35 लोगों की मौत हो गई. वहीं पटना (Patna) में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं और शहर में पानी भर गया है. कुछ इलाकों में हालात इतने खराब हैं कि यातायात पूरी तरह से ठप हो चुका है और शहर में घंटों से बिजली आपूर्ति नहीं हो सकी है. पूरा शहर एक बड़ी झील में तब्दील हो गया है. राजेंद्र नगर और पाटलिपुत्र कॉलोनी जैसे निचले इलाकों में बाढ़ आ गई है. शहर के कई अस्पताल (Hospital), दुकान, बाजार जलमग्न हो चुके हैं. यातायात बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है. जगह-जगह जलभराव की समस्या खड़ी हो गई है. इस बीच शहर के कुछ इलाकों में निवासियों को बचाने के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) की टीमें लगी हुई हैं. वहीं बिहार सरकार ने भारतीय वायुसेना से पटना के बाढ़ प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को निकालने और खाने के पैकेट्स व दवाइयां पहुंचाने के लिए दो हेलिकॉप्टरों की मांग भी की है.

    भारी बारिश के कारण पूरा शहर एक बड़ी झील में तब्दील हो गया है.
    भारी बारिश के कारण पूरा शहर एक बड़ी झील में तब्दील हो गया है.


    अगले 24 घंटे होंगे भारी
    वहीं मौसम विभाग (IMD) ने चेतावनी दी है कि आने वाले 24 घंटे दोनों ही राज्यों पर और भारी पड़ सकते हैं. दोनों ही राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. वहीं आपदा प्रबंधन की टीमें लगातार लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर ले जाने का काम कर रही हैं. साथ ही लोगों को राहत सामग्री पहुंचाने का काम भी युद्ध स्तर पर चलाया जा रहा है.

     



    करोड़ाें की संपत्ति का नुकसान
    दोनों ही राज्यों में करोड़ाें की संपत्ति का नुकसान हुआ है. निजी के साथ ही सरकारी संपत्ति को भी भारी नुकसान पहुंचा है. हजारों की संख्या में लोगों को अपने इलाकों से पलायन करना पड़ा है. सबसे भारी नुकसान किसानों को हुआ है. बाढ़ के चलते बड़े क्षेत्र में फसलें नष्ट हो गई हैं.

    दीवार ढहने से तीन की मौत
    मौसम विभाग के अनुसार, राज्य की राजधानी में शुक्रवार शाम से 200 मिमी से अधिक बारिश हुई है, जिसे आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने ‘‘पूरी तरह से अप्रत्याशित’’ बताया. बिहार के भागलपुर जिले में भारी बारिश के कारण हनुमान मंदिर की चारदीवारी के अचानक गिर जाने से तीन लोगों की मौत हो गयी जबकि एक अन्य व्यक्ति जख्मी हो गया.

    लगातार हो रही बारिश के बाद पटना के कई इलाकों में इतना पानी भर गया कि लोगों को घरों की ऊपरी मंजिल पर शरण लेनी पड़ी. (फोटोः पीटीआई)


    दानापुर में ऑटो रिक्शा पर गिरा पेड़
    पटना (Patna) के दानापुर रेलवे स्टेशन के पूर्वी गेट के पास भारी बारिश के बीच सड़क के किनारे एक पेड़ ऑटो रिक्शा पर अचानक गिर गया, जिसके चलते ऑटो रिक्शा पर सवार डेढ़ साल की एक बच्ची और तीन महिलाओं की रविवार को मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. कैमूर (Kaimur) के जिला मुख्यालय भभुआ में भी तीन मौतें हुईं, जहां लगातार बारिश के कारण दो घर ढह गए. नवादा में, जलधारा में बहे तीन स्थानीय लोगों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है.



    छपरा-भटनी-मऊ रूट पर चलाई जा रही हैं लंबी दूरी की ट्रेनें
    आपदा नियंत्रण विभाग के मुख्य सचिव प्रत्यय कुमार ने पानी के कई सारे पावर सब-स्टेशनों में घुस जाने पर भी चिंता जताई है जो लंबे समय में पानी खींचने वाले पंपों को नुकसान पहुंचा सकता है. भारी बारिश से उत्तर-पूर्व रेलवे के बलिया-छपरा सेक्शन में ट्रेन सेवाएं बाधित हुई हैं. उत्तर-पूर्व रेलवे के पीआरओ महेश गुप्ता ने बताया, 4 बजकर 15 मिनट पर हो रही भारी बारिश को देखते हुए हमें छपरा-बलिया सेक्शन की पटरियों पर मिट्टी का जमाव हो जाने की सूचना मिली. इसने रूट पर रेल ट्रैफिक को प्रभावित किया है. उन्होंने कहा कि इस सेक्शन की कुछ ट्रेनों को रद्द किया गया है जबकि लंबी दूरी की ट्रेनों को छपरा-भटनी-मऊ रूट पर चलाया जा रहा है.