11 साल की बच्ची ने PM मोदी को पत्र लिखकर भारत आने की मांगी इजाजत

पोलैंड की 11 साल की बच्ची अलिस्जा ने पीएम मोदी और नए विदेश मंत्री एस जयशंकर से अपील की है कि उसे और उसकी मां को फिर से गोवा में रहने की इजाजत दी जाए.

News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 12:37 PM IST
11 साल की बच्ची ने PM मोदी को पत्र लिखकर भारत आने की मांगी इजाजत
मां मारतुशका कोतलारस्का के साथ अलिस्जा
News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 12:37 PM IST
पोलैंड की 11 साल की एक बच्ची ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर भारत आने की इजाजत देने की गुजारिश की है. बच्ची ने पत्र में लिखा है कि कुछ दिन पहले तक गोवा ही उसका घर था, लेकिन उन्हें वापस पोलैंड भेज दिया गया. वह भारत में ही रहना चाहती है. बच्ची ने कहा है कि भारत ही उसकी मां और उसका घर है.

पोलैंड की 11 साल की बच्ची अलिस्जा ने पीएम मोदी और नए विदेश मंत्री एस जयशंकर से अपील की है कि उसे और उसकी मां को फिर से गोवा में रहने की इजाजत दी जाए. अलिस्जा ने लिखा की मैं गोवा में अपने स्कूल से बहुत प्यार करती थी. गोवा की सुंदरता और प्राकृतिक दृश्य उसे भारत की ओर आकर्षित करते हैं. यहां पर जानवरों के रेस्क्यू सेंटर में गायों की देखभाल करने की दिनचर्या को भी वह याद करती है.



भारत में उसकी मां को किया गया ब्लैक लिस्ट
Loading...

अलिस्जा ने बताया कि वह पिछले काफी समय से भारत में रह रही थी. कुछ दिन पहले ही वह अपनी मां के साथ भारत से बाहर गई थी लेकिन उसके बाद उन्हें भारत लौटने की अनुमति नहीं दी गई. बच्ची ने बताया कि 24 मार्च को उन्हें बताया गया कि उनके भारत में रुकने की अवधि अब खत्म हो गई है. इस कारण उन्हें ब्लैक लिस्ट कर दिया गया है. बच्ची ने बताया कि इसमें उसकी और उसकी मां की कोई गलती नहीं है. वह अपनी पुरानी जिंदगी को काफी मिस करती हैं और भारत वापस आना चाहती हैं.

सुषमा स्वराज पहले ही कर चुकी हैं मदद
अलिस्जा ने पीएम मोदी और नए विदेश मंत्री एस जयशंकर से गुजारिश की है कि उसकी मां का नाम ब्लैक लिस्ट से हटा दिया जाए जिससे उन्हें गोवा में फिर से रहने की अनुमति दी जा सके. बताया जाता है कि अलिस्जा की मां मारतुशका कोतलारस्का विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से एक बार पहले भी मदद मांग चुकी हैं. अलिस्जा की मां ने सुषमा स्वराज से बेटी से मिलने की गुहार लगाई थी. मारतुश्का को वीजा अवधि से अधिक वक्त तक रुकने के कारण बेंगलुरु के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डिटेन किया गया था. मानवीय आधार पर मारतुश्का को भारत आने की अनुमति दी गई लेकिन कुछ दिन बाद ही दोनों को भारत छोड़ना पड़ा था. अभी अलिस्जा और उसकी मां मारतुश्का कंबोडिया में रह रही हैं.

यह भी पढ़ें- 

एस जयशंकर को विदेश मंत्री बनाने पर चीन ने तोड़ी चुप्पी

चीनी महिला ने 20 हज़ार झाड़ू बनाकर अपने बच्चों की पढ़ाई का ख़र्च उठाया

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 11:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...