• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • India-China Standoff: भारत-चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता होगी कल, उठाए जाएंगे ये मुद्दे!

India-China Standoff: भारत-चीन के बीच 12वें दौर की सैन्य वार्ता होगी कल, उठाए जाएंगे ये मुद्दे!

दोनों देशों के बीच सैन्य वार्ता 26 जुलाई को होनी थी, लेकिन कारगिल दिवस के कारण रद्द हो गई.

दोनों देशों के बीच सैन्य वार्ता 26 जुलाई को होनी थी, लेकिन कारगिल दिवस के कारण रद्द हो गई.

भारतीय सेना की ओर से अनुरोध किए जाने के बाद चीन ने वार्ता के लिए 31 जुलाई का दिन तय किया है. सूत्रों का कहना है कि, भारतीय और चीनी पक्ष सैन्य कमांडरों की बैठक के अगले दौर में देपसांग के मैदानों, गोगरा और गर्म झरनों में मौजूदा विवाद के मसलों पर बात करेंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच सैन्य कमांडर स्तर की 12वें राउंड की वार्ता (12th round of Corps Commander level talks between India and China) शनिवार यानी 31 जुलाई को होगी. भारतीय सेना के सूत्रों का कहना है, भारत और चीन के बीच 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की वार्ता कल सुबह करीब साढ़े दस बजे वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीनी हिस्से के मोल्दो में होगी. इस
बैठक का लक्ष्य पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव का समाधान निकालना है. दरअसल, चीन ने सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता के लिए 26 जुलाई का दिन तय किया था, लेकिन भारतीय सेना ने कारगिल दिवस के कारण तारीख आगे बढ़ाने के लिए कहा था.

भारतीय सेना की ओर से अनुरोध किए जाने के बाद चीन ने वार्ता के लिए 31 जुलाई का दिन तय किया है. सूत्रों का कहना है कि, भारतीय और चीनी पक्ष सैन्य कमांडरों की बैठक के अगले दौर में देपसांग के मैदानों, गोगरा और गर्म झरनों में मौजूदा विवाद के मसलों पर बात करेंगे.

11वें दौर की वार्ता में इन मुद्दों पर हुई बातचीत
इससे पहले 11वें दौर की वार्ता में दोनों सेनाओं ने पूर्वी लद्दाख के हॉट स्प्रिंग, गोगरा और देपसांग जैसे इलाकों से सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया को जल्द आगे बढ़ाने पर जोर दिया था. बता दें कि इन इलाकों में भारत और चीन के सैनिक लगभग 1 साल से आमने-सामने हैं. हालांकि लगातार हो रही बातचीत के बीच दोनों देश के सैनिक कई इलाकों से धीरे-धीरे पीछे भी हटे हैं.

दोनों सेनाओं के बीच लंबे दौर से जारी है गतिरोध
भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले साल पैंगोंग झील के आसपास हुई हिंसक झड़प के चलते गतिरोध पैदा हो गया, जिसके बाद दोनों पक्षों ने धीरे-धीरे अपने हजारों सैनिकों की उस इलाके में तैनाती की थी.

कई दौर की सैन्य और राजनयिक स्तर की वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने फरवरी में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी हिस्से से सैनिकों और हथियारों को पूरी तरह पीछे हटाने पर सहमति जतायी थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज