वंदे भारत मिशन के तहत अब तक 13.85 लाख भारतीयों को स्वदेश लाया गया: सरकार

वंदे भारत मिशन के तहत अब तक 13.85 लाख भारतीयों को स्वदेश लाया गया: सरकार
वंदे भारत मिशन के तहत लगभग 13.85 लाख भारतीयों को स्वदेश लाया गया (फाइल फोटो)

विदेश राज्य मंत्री (Minister of State for External Affairs) वी मुरलीधरन ने बताया कि जो भारतीय (Indian) लौटना चाहते हैं, वे वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) के अंतर्गत संबंधित एयरलाइन्स (Airlines) से सीधे टिकट बुक करा सकते हैं. मंत्री ने कहा कि 11 सितंबर तक 13,85,670 भारतीयों को ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत विदेशों (Foreign) से स्वदेश लाया गया है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 16, 2020, 11:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार (Government) ने बताया कि 11 सितंबर तक 13.85 लाख भारतीयों को ‘वंदे भारत मिशन’ (Vande Bharat Mission) के तहत विदेशों (Foreign) से स्वदेश लाया गया है. लोकसभा (Lok Sabha) में डा. उमेश जाधव, मनोज कोटक, मोहनभाई कुंडारिया, अजय मिश्र टेनी और मोहम्मद फैजल के प्रश्नों के लिखित उत्तर में विदेश राज्य मंत्री (Minister of State for External Affairs) वी मुरलीधरन ने कहा कि हमारे मिशन दूसरे देशों में रहने वाले भारतीयों के साथ नियमित सम्पर्क (regular contact) में हैं और अनुरोध करने पर उनके भारत लौटने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं.

उन्होंने बताया कि जो भारतीय (Indian) लौटना चाहते हैं, वे वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) के अंतर्गत संबंधित एयरलाइन्स (Airlines) से सीधे टिकट बुक करा सकते हैं. मंत्री ने कहा कि 11 सितंबर तक 13,85,670 भारतीयों को ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत विदेशों (Foreign) से स्वदेश लाया गया है.

पिछले हफ्ते दी गई थी वंदे भारत मिशन का छठा चरण शुरू होने की जानकारी
पिछले हफ्ते सरकार की ओर से जानकारी दी गई थी कि 1 सितंबर से वंदे भारत मिशन का छठा चरण शुरू हो गया है. उन्होंने कहा कि वंदे भारत मिशन के तहत लोगों को विभिन्न माध्यमों से भारत लाया जा रहा है जिसमें एयर इंडिया, निजी एवं विदेश कैरियर, नौसेना के जहाज आदि शामिल हैं.
प्रवक्ता ने बताया कि वंदे भारत मिशन के छठे चरण के तहत इस महीने 1007 अंतरराष्ट्रीय उड़ान निर्धारित हैं जो 24 देशों से संबंधित हैं . इस दौरान दो लाख लोगों को लाये जाने की उम्मीद है. उन्होंने बताया कि इनमें से 270 अंतरराष्ट्रीय उड़ानें परिचालित हुई है जो खाड़ी परिषद देशों, थाईलैंड, अमेरिका, ब्रिटेन, मलेशिया, फिलीपीन, सिंगापुर, जर्मनी, कनाडा, चीन जैसे देशों से संबंधित हैं.



यह भी पढ़ें: नए संसद भवन का निर्माण करेगी टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड, 861 करोड़ रुपए आएगी लागत

श्रीवास्तव ने कहा कि जहां तक द्विपक्षीय एयर बबल सेवा का सवाल है, यह 11 देशों के साथ चल रहा है. गौरतलब है कि यह व्यवस्था अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, यूएई, फ्रांस, जर्मनी, मालदीव, कतर आदि के साथ चल रही हैं. उन्होंने कहा कि मंत्रालय द्वारा मिशन के जरिये आने को इच्छुक लोगों के संबंध में मांग पर करीबी नजर रखी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज