Assembly Banner 2021

वायुसेना ने जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख में फंसे 132 यात्रियों को किया एयरलिफ्ट

भारतीय वायुसेना ने लोगों को विमान से करगिल लद्दाख और जम्‍मू आदि में सुरक्षित पहुंचाया.

भारतीय वायुसेना ने लोगों को विमान से करगिल लद्दाख और जम्‍मू आदि में सुरक्षित पहुंचाया.

लद्दाख (Ladakh) और जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के लगभग 132 यात्रियों को हवाई मार्ग के जरिये एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया गया. 40 यात्रियों को श्रीनगर से करगिल और इतने ही मुसाफिरों को जम्मू से करगिल पहुंचाया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 10:03 PM IST
  • Share this:
जम्मू. केन्द्रशासित प्रदेशों लद्दाख और जम्मू कश्मीर (Ladakh and Jammu-Kashmir) के बीच गुरुवार को लगभग 132 यात्रियों को हवाई मार्ग के जरिये एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया गया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि कुल चार नवजात शिशुओं समेत कुल 114 यात्रियों को वायुसेना (Indian Air Force) के दो एएन-32 विमानों के जरिये एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया गया है. अधिकारियों ने कहा कि 40 यात्रियों को श्रीनगर से करगिल और इतने ही मुसाफिरों को जम्मू से करगिल पहुंचाया गया.

इसके अलावा 19 यात्रियों को करगिल से श्रीनगर जबकि 12 मुसाफिरों को करगिल से जम्मू पहुंचाया गया. वहीं तीन यात्रियों के करगिल से चंडीगढ़ पहुंचाया गया है. इसके अलावा पवन हंस हेलीकॉप्टरों के जरिये 15 यात्रियों के श्रीनगर से करगिल जबकि तीन मुसाफिरों को करगिल से श्रीनगर पहुंचाया गया है. इससे पहले भी भारतीय वायुसेना ने जम्मू-कश्मीर में फंसे 381 लोगों को शनिवार को विमान से लद्दाख पहुंचाया. करगिल कुरियर सर्विस के मुख्य संयोजक आमिर अली ने कहा कि 197 यात्रियों को सी-17 विमान के जरिये श्रीनगर से लेह जबकि 184 यात्रियों को जम्मू से लेह पहुंचाया था.

ये भी पढ़ें  थ्री इडियट्स वाले 'वांगडू' ने बनाया जवानों के लिए सोलर टेंट, 10 पॉइंट्स में जानें हर बात



ये भी पढ़ें  जम्मू कश्मीरः वायुसेना ने घाटी में फंसे हुए 381 यात्रियों को विमान के जरिए पहुंचाया लद्दाख
पिछले साल दिसंबर में हुई भारी बर्फबारी के चलते 434 किलोमीटर लंबे श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया था. इसके मद्देजनर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में फंसे यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिये वायुसेना नियमित रूप से सी-17, सी-130 और एन-32 विमानों का संचालन करती है. राजमार्ग को 28 फरवरी को फिर से खोल दिया गया था. लेकिन इस सप्ताह की शुरुआत में ताजा बर्फबारी होने के चलते उसे बंद करना पड़ा. जनवरी में दोनों केन्द्रशासित प्रदेशों के बीच करगिल कुरियर सर्विस शुरू होने के बाद से वायुसेना हजारों यात्रियों को हवाई मार्ग से एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जा चुकी है.

अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर के ऊपरी हिस्सों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश होने के कारण फिर से शीतलहर शुरू हो गई है और तापमान सामान्य से सात डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया है. मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि श्रीनगर में अधिकतम तापमान 8.2 डिग्री सेल्सियस मापा गया जो सामान्य से छह डिग्री सेल्सियस कम है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज