नीरव मोदी-मेहुल चोकसी पर कसा शिकंजा, 1350 करोड़ की ज्वैलरी विदेशों से वापस लाई गई

नीरव मोदी-मेहुल चोकसी पर कसा शिकंजा, 1350 करोड़ की ज्वैलरी विदेशों से वापस लाई गई
नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कीमती वस्तुएं विदेशों से वापस लाई गईं हैं (फाइल फोटो)

इन कीमती सामान में पॉलिश किए हुए हीरे (Diamonds), मोती और चांदी के गहने आदि शामिल हैं और इन्हें हांगकांग (Hong Kong) की एक लॉजिस्टिक्स कंपनी के गोदाम में रखा गया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ED) बुधवार को नीरव मोदी (Nirav Modi) और मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) की विभिन्न विदेशी (यूएई और हांगकांग की) कंपनियों के सामान के 108 कंसाइनमेंट हांगकांग (Hong Kong) से वापस लेकर आया. इस सामान का मूल्य लगभग 1350 करोड़ रुपये बताया जा रहा है.

इन कीमती सामानों में पॉलिश किए हुए हीरे (Diamonds), मोती, मोती और चांदी के गहने आदि शामिल हैं. इन्हें हांगकांग की एक लॉजिस्टिक्स कंपनी के गोदाम में रखा गया था. इन कंसाइनमेंट (Consignment) को आज मुंबई (Mumbai) वापस लाया गया और कंसाइनमेंट का वजन लगभग 2340 किग्रा है.

2018 में दुबई से हांगकांग भेजे गये थे ये कंसाइनमेंट, ED कर रहा था लाने का प्रयास
इन कंसाइनमेंट को 2018 की शुरुआत में दुबई से हांगकांग भेजा गया था और प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारियों को जुलाई 2018 में इन क़ीमती सामान के बारे में इंटेलिजेंस से सूचना मिली थी. अधिकारी लगातार इन क़ीमती सामान को भारत वापस लाने के लिए हांगकांग में विभिन्न अथॉरिटीज के साथ लगातार बातचीत कर रहे थे.
विभिन्न प्रक्रियाओं को अंतिम रूप दिया गया और सभी कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद, इन कंसाइनमेंट को अब भारत वापस लाया गया है. 108 कंसाइनमेंट में से 32 कंसाइनमेंट नीरव मोदी (Nirav Modi) के नियंत्रण वाली कंपनियों के हैं और बाकी मेहुल चोकसी के नियंत्रण वाली कंपनियों से संबंधित हैं.



पहले भी ED लेकर आया है नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का 137 करोड़ का सामान
इससे पहले ED नीरव मोदी और मेहुल चोकसी मामले में दुबई और हांगकांग (Dubai and Hong Kong) से क़ीमती सामानों के 33 कंसाइनमेंट को सफलतापूर्वक वापस लाई थी. इन क़ीमती सामान के आने पर इनका दाम लगाया गया था और बाद में इसे भारत सरकार ने जब्त कर लिया था. स्वतंत्र क़ीमत लगाने वाले ने इन पूर्व की कंसाइनमेंट का मूल्यांकन लगभग 137 करोड़ रुपये किया था.

ये भी देखें:



यह भी पढ़ें:- भारत में रेमडेसिवीर बनाने की अनुमति जल्द, फिर भी इस महीने नहीं होगी उपलब्ध
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज