आंध्र प्रदेश के सरकारी अस्पताल में 14 कोरोना मरीजों की मौत से मचा हड़कंप

आंध्र प्रदेश के सरकारी अस्पताल में 14 कोरोना मरीजों की हुई मौत (सांकेतिक तस्वीर)

आंध्र प्रदेश के सरकारी अस्पताल में 14 कोरोना मरीजों की हुई मौत (सांकेतिक तस्वीर)

घटना की जानकारी देते हुए ज्वॉइंट कलेक्टर निशांत कुमार ने बताया कि सरकारी अस्‍पताल (Government Hospital) में ऑक्‍सीजन (Oxygen) की कमी को लेकर अफवाह फैलाई जा रही है. सभी कोरेाना मरीजों (Corona Patients) की मौत गंभीर कोरोना के कारण हुई है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के एक सरकारी अस्‍पताल (Government Hospital) में शनिवार को 14 कोरोना मरीजों (Corona Patients) की मौत से हड़कंप मच गया. अभी तक अस्‍पताल प्रशासन की ओर से मौत के कारणों की जानकारी नहीं दी गई है. हालांकि अस्‍पताल में मौजूद लोगों का कहना है कि कोरोना मरीजों की मौत ऑक्‍सीजन की कमी की वजह से हुई है. हालांकि अस्‍पताल प्रशासन इस बात को अफवाह बता रहा है. कोरोना मरीजों की मौत के बाद कलेक्टर ने अस्पताल का दौरा करने के बाद जांच शुरू कर की गई है.

घटना की जानकारी देते हुए ज्वॉइंट कलेक्टर निशांत कुमार ने बताया कि अस्‍पताल में ऑक्‍सीजन की कमी को लेकर अफवाह फैलाई जा रही है. सभी मरीजों की मौत गंभीर कोरोना के कारण हुई है. हमारी टीम ने ऑक्सीजन प्लांट की जांच की है. हर वार्ड का दौरा कर एक एक प्‍वाइंट और वॉल्‍व को चेक किया गया है. कहीं पर भी कोई दिक्‍कत नहीं है. ऑक्सीजन प्लांट का प्रेशर भी सही है और सप्लाई में भी किसी भी तरह की कोई दिक्कत महसूस नहीं की गई है.



इसे भी पढ़ें :- Covid-19: कोरोना ने मचाया कोहराम, 24 घंटे में रिकॉर्ड 3689 मरीजों की मौत
उन्‍होंने बताया कि सरकारी अस्‍पताल में जिन लोगों की मौत हुई है उसका ऑक्‍सीजन की कमी से कोई कनेक्‍शन नहीं है. जितने लोगों की भी मौत हुई है, उन सभी की उम्र ज्यादा थी और उन्हें पहले से ही गंभीर बीमारियां थीं.

Youtube Video


इसे भी पढ़ें :- कोविड-19 टास्‍क फोर्स की सलाह, कोरोना महामारी रोकने के लिए लॉकडाउन लगाना जरूरी: रिपोर्ट



इसलिए ये मौतें ऑक्सीजन की वजह से नहीं हुई है. हमने पर्सनली चेक किया है. ये सही नहीं है कि ऑक्सीजन की कमी से ये मौतें हुई हैं. दुर्भाग्य से ये बात सही है कि मौतों की संख्या ज्यादा है, लेकिन ये ऑक्सीजन की कमी की वजह से नहीं है. जिन मरीजों की मौत हुई है, उनमें से ज्यादातर को डायबिटीज, हार्ट प्रॉब्ल्म्स और कार्डियक अरेस्ट जैसी शिकायतें थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज