• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • 14 STATES SEE COVID RECOVERY RATE OF 90 OR ABOVE KNOWAT

हार रहा है कोरोना, देश के 14 राज्यों में रिकवरी रेट 90% या उससे ज्यादा

कोरोना मरीजों के इलाज की स्थितियां भी पहले बेहतर हुई हैं. रिकवरी रेट बढ़ा है. (तस्वीर-AP)

बेहतर होते रिकवरी रेट (Recovery Rate) का असर आंकड़ों में भी दिखाई दे रहा है. मई महीने की शुरुआत में जहां एक्टिव मामलों की संख्या 37 लाख थी, वो अब 26 लाख पर पहुंच चुकी है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश अब कोरोना की दूसरी लहर (Covid 2nd Wave) से उबर रहा है. नए मामलों (New Cases) में कमी के साथ ही रिकवरी रेट (Recovery Rate) लगातार बेहतर हो रहा है. 14 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में रिकवरी रेट या तो 90 प्रतिशत है या फिर उससे ज्यादा हो चुका है. बेहतर होते रिकवरी रेट का असर आंकड़ों में भी दिखाई दे रहा है. मई महीने की शुरुआत में जहां एक्टिव मामलों की संख्या 37 लाख थी, वो अब 26 लाख पर पहुंच चुकी है.

    सबसे अधिक रिकवरी रेट राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का है. यहां पर 97 फीसदी रिकवरी रेट है. इसके बाद यूपी, बिहार और हरियाणा में 94 फीसदी तो महाराष्ट्र, तेलंगाना, झारखंड, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में 93 फीसदी है. उत्तराखंड में रिकवरी रेट 80 फीसदी है तो नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों की स्थिति अभी खराब है. मिजोरम, मेघालय और सिक्किम जैसे राज्यों में 70 से 76 फीसदी रिकवरी रेट है. हालांकि अभी नॉर्थ-ईस्ट में महामारी ने जोर पकड़ा हुआ है. एक्टिव केस की संख्या ज्यादा होने के पीछे ये एक मुख्य कारण है.

    इन राज्यों में रिकवरी रेट अभी राष्ट्रीय औसत से कम
    जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु, पुडुचेरी, मणिपुर, ओडिशा और असम जैसे राज्यों का रिकवरी रेट 80 से 84 फीसदी के बीच है जो राष्ट्रीय औसत 89 से काफी कम है. अभी इन राज्यों को लगातार महामारी के खिलाफ लड़ाई में बेहद सतर्कता बनाए रखनी होगी.

    वैक्सीन उत्पाद बढ़ाने पर दिया जा रहा है जोर, महामारी के खिलाफ प्रयासों में तेजी
    बता दें इस महीने की शुरुआत में देश में 18 से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए वैक्सीनेशन की शुरुआत कर दी गई है. महामारी की ढलान के साथ ही वैक्सीनेशन कार्यक्रम को तेज किया जा रहा है. अब रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-V भी वैक्सीनेशन कार्यक्रम में शामिल हो चुकी है. सरकार द्वारा कुछ दिनों पहले बताया गया था कि अगले कुछ महीने के भीतर वैक्सीन का उत्पादन तेजी के साथ बढ़ाया जाएगा. दिसंबर तक 200 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज उपलब्ध होने की बातें कही गई हैं.
    Published by:Arun Tiwari
    First published: