लाइव टीवी

ICICI, AXIS सहित 21 बैंकों पर गिरी बिहार सरकार की गाज


Updated: August 21, 2012, 11:57 AM IST
ICICI, AXIS सहित 21 बैंकों पर गिरी बिहार सरकार की गाज
बिहार सरकार ने 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है। बिहार सरकार ने ग्राहकों को कर्ज न देने के कारण 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट करने का फैसला किया है।

बिहार सरकार ने 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है। बिहार सरकार ने ग्राहकों को कर्ज न देने के कारण 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट करने का फैसला किया है।

  • Share this:
पटना। बिहार सरकार ने 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है। बिहार सरकार ने ग्राहकों को कर्ज न देने के कारण 21 राष्ट्रीय बैंकों को ब्लैकलिस्ट करने का फैसला किया है। ऐसे में अब इन 21 राष्ट्रीय बैंकों में से बिहार सरकार ने अपनी जमाराशि पूरी तरह निकालने के साथ इन बैंकों में अपना खाता बंद करने का फैसला किया है। राज्य सरकार ने इन बैंकों से राज्य सरकार के सभी खाते बंद करने का आदेश दिया है।

बिहार सरकार ने जिन 21 बैंकों को ब्लैकलिस्ट किया है उनमें विजया बैंक, यूको बैंक, देना बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आंध्रा बैंक, इंडियन बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, जम्मू एंड कश्मीर बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, पंजाब एंड सिंध बैंक और स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर जैसे सरकारी बैंक का नाम शामिल है।

हालांकि एसबीआई, पीएनबी और केनरा बैंक के लोन देने के अच्छे रिकॉर्ड को देखते हुए इन्हें ब्लैकलिस्ट नहीं किया गया है। वहीं बिहार सरकार ने एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, फेडरल बैंक, साउथ इंडियन बैंक, आईएनजी वैश्य बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक जैसे प्राइवेट सेक्टर के बड़े बैंकों को भी ब्लैकलिस्ट कर दिया है।

दरअसल बिहार सरकार कई वर्षों से बैंकों से लोन रेश्यो सुधारने को कह रही है। सरकार का कहना है कि बिहार राज्य उभर रहा है और यहां नए कारोबारियों, किसानों और छोटे कारोबारियों को पैसे की जरूरत है। लेकिन बैंक सरकार की मांग को नजरअंदाज करते रहे हैं और लोन देने से कतरा रहे हैं। इसी वजह से राज्य सरकार ने नाराज होकर ये कार्रवाई की है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2012, 11:57 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर