कुलभूषण जाधव मामला: 16 में से 15 जज भारत के पक्ष में, चीन भी आया साथ

नीदरलैंड के हेग की अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) में कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी है और भारत की बड़ी जीत हुई है.

News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 5:03 AM IST
कुलभूषण जाधव मामला: 16 में से 15 जज भारत के पक्ष में, चीन भी आया साथ
कुलभूषण मामले में चीनी जज ने भी दिया भारत का साथ (ICJ की ज्यूरी)
News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 5:03 AM IST
नीदरलैंड के हेग की अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में बुधवार को कुलभूषण जाधव मामले में भारत की बड़ी जीत हुई है. कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान से कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को दी गई मौत की सजा की समीक्षा करे. इसका यह मतलब है कि मौत की सजा पर ICJ ने जो रोक लगाई थी, वह जारी रहेगी.

इसके अलावा ICJ ने भारत की राजनयिक मदद कुलभूषण को पहुंचाए जाने की मांग को भी मान लिया है. इसके बाद भारतीय उच्चायोग जाधव से मिल सकेंगे और उन्हें वकील और दूसरी कानूनी सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगीं.

ICJ ने पाकिस्तान को लगाई लताड़
भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा है कि यह मामला पूरी तरह से भारत के पक्ष में रहा है. फैसले से पहले भी भारत कई बार पाकिस्तान को वियना समझौते की याद दिलाता रहा था लेकिन पाकिस्तान अपने फैसले पर कायम रहा था. लेकिन मामला जब इंटरनेशनल कोर्ट पहुंचा तो पाकिस्तान को इसके लिए भी लताड़ लगाई गई.

16 में से 15 जज रहे भारत के पक्ष में
खास बात यह भी रही कि जो 16 जजों की ज्यूरी इस मामले की सुनवाई कर रही थी, उसमें से 15 जज भारत के पक्ष में सहमत दिखे. इतना ही नहीं चीन की जज शू हांकिन भी भारत के पक्ष में खड़ीं नज़र आईं. जबकि अभी तक अक्सर चीन को पाकिस्तान की ओर ही खड़ा देखा गया है. चाहे यह मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का मामला रहा हो या फिर भारत को यूएन की सिक्योरिटी काउंसिल में शामिल करने का.

चीनी जज ने भी दिया भारत का साथ
Loading...

बता दें कि चीन की जज शू हांकिन जून, 2010 से ICJ की सदस्य हैं. उन्हें 2012 में फिर से ICJ में चुना गया था. इसके बाद वे 6 फरवरी, 2018 में ICJ की उपाध्यक्ष बन गई थीं. शू, चीन की लीगल लॉ डिवीजन की हेड और नीदरलैंड में चीन की राजदूत थीं.

जजों की ज्यूरी में एक भारतीय और एक पाकिस्तानी जज भी
कुलभूषण के मामले की सुनवाई 16 जजों की बेंच कर रही थी. जिसकी अगुवाई ICJ के प्रमुख जज अब्दुलकवि अहमद यूसुफ कर रहे थे. 16 जजों में एक भारतीय जज दलवीर भंडारी भी हैं. वहीं पाकिस्तानी जज तसद्दुक हुसैन जिलानी भी इस टीम का हिस्सा हैं. हालांकि वे इस बेंच का परमानेंट हिस्सा नहीं हैं, उनकी एंट्री एडहॉक जज के तौर पर हुई थी. लोगों का कहना है कि संभवत: उन्होंने ही भारत के खिलाफ वोट किया है.

यह भी पढ़ें: कुलभूषण केस में हार से PAK का इंकार लेकिन भारत से बातचीत के लिए फिर गिड़गिड़ाया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2019, 4:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...