पूर्वी एशिया सम्मेलन में शनिवार को भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे एस. जयशंकर

विदेश मंत्री एस. जयशंकर  (फाइल फोटो)
विदेश मंत्री एस. जयशंकर (फाइल फोटो)

पूर्वी एशिया सम्मेलन (East Asia Summit) सुरक्षा और रक्षा संबंधी मुद्दों पर एशिया-प्रशांत क्षेत्र का प्रतिष्ठित मंच है. 2005 में इसके गठन से लेकर अभी तक इसने पूर्वी एशिया के रणनीतिक, भौगोलिक और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 10:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S. Jaishankar) शनिवार को ऑनलाइन आयोजित हो रहे पूर्वी एशिया सम्मेलन (East Asia Summit) में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. विदेश मंत्रालय ने समूह के 15वें सम्मेलन में जयशंकर के भाग लेने की घोषणा की है. मंत्रालय ने बताया कि सम्मेलन की अध्यक्षता वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन शुआन हु करेंगे और इसमें समूह के सभी 18 सदस्य देश भाग लेंगे.

पूर्वी एशिया के विकास निभाई महत्वपूर्ण भूमिका
पूर्वी एशिया सम्मेलन सुरक्षा और रक्षा संबंधी मुद्दों पर एशिया-प्रशांत क्षेत्र का प्रतिष्ठित मंच है. 2005 में इसके गठन से लेकर अभी तक इसने पूर्वी एशिया के रणनीतिक, भौगोलिक और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

विदेश मंत्रालय ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों के अलावा सम्मेलन में समूह को और मजबूत बनाने के तरीकों तथा आपात स्थिति से निपटने की क्षमता को बेहतर बनाने के संबंध में चर्चा होगी.
समूह में आसियान देशों के 10 सदस्य शामिल


इस समूह में आसियान के 10 सदस्य.... ब्रूनेई दारुसल्लाम, कम्बोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यामां, फिलीपीन, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के अलावा भारत, चीन, जापान, कोरिया गणतंत्र, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूस भी शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज