• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को तिहाड़ में फांसी

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को तिहाड़ में फांसी

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी की सजा दे दी गई है। अफजल गुरु को दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दी गई। अफजल गुरु को सुबह 8 बजे फांसी दी गई।

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी की सजा दे दी गई है। अफजल गुरु को दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दी गई। अफजल गुरु को सुबह 8 बजे फांसी दी गई।

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी की सजा दे दी गई है। अफजल गुरु को दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दी गई। अफजल गुरु को सुबह 8 बजे फांसी दी गई।

  • Share this:
    नई दिल्ली। संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी की सजा दे दी गई है। अफजल गुरु को दिल्ली के तिहाड़ जेल में फांसी दी गई। अफजल गुरु को सुबह 8 बजे फांसी दी गई। अफजल को फांसी देने से पहले आज सुबह से ही तिहाड़ जेल में हलचलें तेज हो गई थीं। सुबह करीब 4 बजे ही तिहाड़ जेल में कई अधिकारी पहुंच चुके थे।

    सारी जरूरी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद बैरक नंबर 3 में सुबह आठ बजे अफजल को फांसी दी गई। राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता राजमोनी ने कहा है कि कुछ दिन पहले ही अफजल गुरु की दया याचिका खारिज कर दी गई थी। एक तरफ दिल्ली में जहां अफजल गुरु को फांसी दी गई, तो दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर के बड़े इलाके में अचानक भारी सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया। श्रीनगर, बारामुला और अनंतनाग जैसे इलाकों में तो कर्फ्यू ही लगा दिया गया। आपको याद दिला दें कि अफजल गुरु की दया याचिका राष्ट्रपति के पास थी, कई सालों से उसको फांसी देने की मांग हो रही थी।

    देखें-किस तरह संसद हमले को दिया गया अंजाम

    अफजल की फांसी से जुड़े कोर ग्रुप के सूत्रों के मुताबिक 12 बजे फांसी के लिए कोर टीम का गठन किया गया। इस कोर टीम को अफजल को फांसी के फैसले की जानकारी दी गई। रात को ही जेल के डीजी को डेथ वॉरंट यानी फांसी की जानकारी दी गई। इसके बाद फांसी की तैयारियां शुरू हो गईं। रात को ही अफजल को उसके बैरक से हटा कर दूसरे बैरक में डाल दिया गया। अफजल को जेल नंबर 3 में ले जाया गया। इस जेल की सुरक्षा तमिलनाडु पुलिस के हवाले है। इस बैरक से बाकी सारे कैदियों को हटा दिया गया। सुबह 5 बजे अफजल गुरु को उसकी फांसी के बारे में बताया गया। सुबह 7 बजे डॉक्टरों ने अफजल का ब्लड प्रेशर जांचा। जांच में ब्लड प्रेशर सामान्य पाया गया। इसके बाद साढ़े सात बजे फांसी की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। सुबह 8 बजे डॉक्टरों ने अफजल की मौत की पुष्टि कर दी।

    पढ़ें: 11 साल पहले संसद पर हुए हमले की पूरी कहानी

    फांसी के लिए कल देर रात ही अफजल गुरु को जेल नंबर 3 में शिफ्ट कर दिया गया था। आज सुबह फांसी पर लटकाए जाने से पहले जेल अधिकारियों ने अफजल गुरु से उनकी अंतिम इच्छा भी पूछी गई। लेकिन अफजल ने इसका कोई जवाब नहीं दिया। राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता राजमोनी ने कहा है कि कुछ दिन पहले ही अफजल गुरु की दया याचिका खारिज कर दी गई थी। इसके बाद अफजल गुरु के परिवार को भी बता दिया गया था कि उसे जल्द ही फांसी की सजा दी जा सकती है। एक तरफ दिल्ली में जहां अफजल गुरु को फांसी दी गई, तो दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर के बड़े इलाके में अचानक भारी सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया। श्रीनगर, बारामुला और अनंतनाग जैसे इलाकों में तो सुबह से ही कर्फ्यू ही लगा दिया गया। करीब-करीब पूरी कश्मीर घाटी में कर्फ्यू है।

    अफजल गुरु की दया याचिका राष्ट्रपति के पास थी, कई सालों से उसको फांसी देने की मांग हो रही थी। इससे पहले देश पर हमले के आरोपी आतंकी अजमल आमिर कसाब को भी फांसी दी गई थी। उस वक्त भी देश की अदालतों से फांसी की सजा मिलने के बाद राष्ट्रपति के पास दया याचिका के लिए फाइल गई थी। प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के बाद कसाब की दया याचिका नामंजूर कर दी गई थी। अब अफजल गुरु की दया याचिका नामंजूर कर एक बार फिर उसे उसकी करनी की सजा दे दी गई है।





    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज