लाइव टीवी

चिदंबरम के बजट से उद्योग जगत खुश तो शेयर बाजार नाखुश

News18India
Updated: February 28, 2013, 5:01 PM IST

चिदंबरम के इस बजट को उद्योग जगत ने संतुलित बताते हुए अच्छा करार दिया है, तो वहीं बजट से बाजार ज्यादा खुश नहीं दिखा। सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में ही गिरावट दर्ज की गई।

  • News18India
  • Last Updated: February 28, 2013, 5:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। चिदंबरम के इस बजट को उद्योग जगत ने संतुलित बताते हुए अच्छा करार दिया है, तो वहीं बजट से बाजार ज्यादा खुश नहीं दिखा। सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में ही गिरावट दर्ज की गई।

वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने आम बजट 2013 में बाजार के लिए कई अहम घोषणाएं की हैं। बजट में राजीव गांधी इक्विटी सेविंग्स स्कीम (आरजीईसीसी) की सीमा बढ़ा दी गई है। वित्त मंत्री ने राजीव गांधी इक्विटी सेविंग्स स्कीम में इंवेस्टमेंट के लिए इनकम लिमिट बढ़ा दी है। अब इस स्कीम में 12 लाख रुपये तक की इनकम वाले लोग इंवेस्ट कर सकेंगे। पहले यह योजना 10 लाख रुपये सालाना की आय तक सीमित थी। आरजीईसीसी में निवेश करने वाले लोग टैक्स छूट का फायदा अब लगातार 3 साल तक उठा सकते हैं। पहले टैक्स छूट सिर्फ 1 साल तक ही मिलने का प्रावधान था।

म्यूचुअल फंड्स और लिस्टेड शेयर्स में पहली बार निवेश करने वाले लोगों को टैक्स छूट देने के लिए इस योजना का ऐलान पिछले बजट में ही किया गया था, लेकिन इसे पिछले महीने ही शुरू किया गया। चिदंबरम ने बजट में इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर को काफी अहमियत दी है। वित्त मंत्री ने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर डेट फंड को बढ़ावा दिया जाएगा, चिदंबरम ने इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 50 हजार करोड़ रुपए के टैक्स फ्री बॉन्ड की घोषणा की।

चिदंबरम ने बजट में फैक्ट्रियों के लिए 100 करोड़ रुपए के क्रेडिट गारंटी फंड का ऐलान किया है। यही नहीं सेबी यानि सिक्युरिटीज ऐंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ऐक्ट में बदलाव करने का भी वित्त मंत्री ने ऐलान किया है। सेबी एफआईआई यानि फॉरेन इंस्टिट्यूशनल इन्वेस्टमेंट कैटिगरीज को एक कर सकेगा। जो एफआईआई और एफडीआई शेयर होल्डिंग्स पर आधारित होंगी। बजट में 10 फीसदी तक के निवेश को एफआईआई माना जाएगा।

चिदंबरम के इस बजट को उद्योग जगत के लोगों आईसीआईसीआई बैंक की एमडी चंदा कोचर, भारती इंटरप्राइजेज के एमडी राजन मित्तल और फिक्की ने अध्यक्ष नैना लाल किदवई आदि ने बजट को संतुलित और अच्छी नियत वाला करार दिया है।

चिदंबरम ने बजट में पेंशन-प्रोविडेंट फंड्स को भी आजादी दी है। जिससे पेंशन और प्रविडेंट फंड में ज्यादा रिटर्न की गुंजाइश बनेगी। वहीं म्यूचुअल फंड स्टॉक एक्सचेंज का मेंबर बन सकेंगे जिससे उनकी पहुंच ज्यादा लोगों तक होगी।

लेकिन दूसरी तरफ चिदंबरम के बजट से कमॉडिटी मार्केट में वायदा कारोबार करने वाले खुश नहीं होंगे क्योंकि अब हर लेनदेन पर टैक्स लगेगा। लेकिन शेयरों की खरीद फरोख्त पर टैक्स घटा दिया गया है। फिर भी चिदंबरम का बजट बाजार को रौनक नहीं दे पाया और सेंसेक्स 291 अंकों की गिरावट के साथ 19 हजार से नीचे लुढ़का। वहीं निफ्टी 104 अंक टूट गया।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2013, 5:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर