होम /न्यूज /राष्ट्र /Republic Day Parade: राम मंदिर से राफेल लड़ाकू विमान तक- कोरोना काल में ऐसा नजर आएगा गणतंत्र दिवस का जश्न

Republic Day Parade: राम मंदिर से राफेल लड़ाकू विमान तक- कोरोना काल में ऐसा नजर आएगा गणतंत्र दिवस का जश्न

गणतंत्र दिवस परेड पर इस साल नौसेना अपने पोत आईएनएस विक्रांत और 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान नौसैन्य अभियान की झांकी पेश करेगी. (File Photo-PTI)

गणतंत्र दिवस परेड पर इस साल नौसेना अपने पोत आईएनएस विक्रांत और 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान नौसैन्य अभियान की झांकी पेश करेगी. (File Photo-PTI)

Republic Day: सरकार ने इस बार जश्न के मौके पर कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर कई तरह की पाबंदियां लगाईं हैं. ऐसे में द ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. कुछ ही दिनों में गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जाना है. 26 जनवरी को लेकर भारतीयों में खासा उत्साह होता है, लेकिन इस साल कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) ने पूरे जश्न को अस्त-व्यस्त कर दिया है. जिस दिन भारतीय सेना अपनी एकजुटता का प्रदर्शन करती है, उसकी परेड की दूरी को कम हो गया है. देश के त्योहार की शोभा बढ़ाने वाले बच्चों भी इस बार कम नजर आएंगे. हालांकि कोविड-19 (COVID-19) की तमाम पाबंदियों के बाद भी गणतंत्र दिवस अपने पूरे रंग में नजर आएगा.

    सरकार ने इस बार जश्न के मौके पर कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर कई तरह की पाबंदियां लगाई हैं. ऐसे में दर्शकों और देशवासियों के लिए 2021 का गणतंत्र दिवस परेड कुछ अलग नजर आ सकता है. अनुमान लगाए जा रहे हैं कि सरकार देशवासियों की सुरक्षा के लिहाज से कार्यक्रमों में ये बदलाव कर सकती है.

    शोभा बढ़ाएगा राफेल: बीते साल सितंबर में भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) का हिस्सा बना राफेल (Rafale) लड़ाकू विमान पहली बार परेड में शामिल होने जा रहा है. फ्रांस के साथ भारत की कुछ 36 विमानों की डील है, जिसमें से अब तक 11 राफेल सेना का हिस्सा बन चुके हैं.

    पहली महिला पायलट: गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार लड़ाकू विमान की पहली महिला पायलट शामिल होंगी. लड़ाकू विमान की पहली महिला पायलटों में से एक फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत भारतीय वायुसेना की झांकी का हिस्सा होंगी. इस झांकी में लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट, लाइट कॉम्बेट हेलिकॉप्टर और सुखोई-30 जहाजों को प्रदर्शित किया जाएगा.

    लद्दाख की झांकी: इस दौरान लद्दाख (Ladakh) दल थिकसे मठ और इससे जुड़े सांस्कृतिक महत्व को दिखाती हुई एक झांखी प्रदर्शित करेगा. इस झांखी में लेह जिले के थिकसे में पहाड़ी की चोटी पर मौजूद ऐतिहासिक थिकसे मठ को दिखाया जाएगा. यह क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है.

    आंध्र प्रदेश की झलक: गणतंत्र दिवस परेड के दौरान लेपाक्षी मंदिर की झांकी निकाली जाएगी, जिसमें मंदिर के आर्किटेक्चर और आंध्रप्रदेश को दिखाया जाएगा. मंदिर के आर्किटेक्चर के अलावा इस झांकी के जरिए नंदी के विशालकाय खंभे का भी प्रदर्शन होगा.

    नौसेना का शौर्य: इस परेड में भारतीय नौसेना आईएनएस विक्रांत और 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध को दिखाती हुई एक झांकी प्रदर्शित करेगी. इस झांकी का अगला हिस्सा कराची बंदरगाह पर हुए हमले को दिखाएगा.

    परेड में राम मंदिर: उत्तर प्रदेश की तरफ से परेड में अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर की नकल दिखाई जाएगी. खास बात है कि दशकों से चले आ रहे मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने 2019 नवंबर में फैसला सुना दिया था.

    नाराज किसान भी लेंगे हिस्सा: प्रदर्शन कर रहे किसानों ने भी परेड में अलग-अलग राज्यों की झांकियां दिखाने का फैसला किया है. वहीं, किसान संगठनों ने ऐलान किया है कि गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर ट्रैक्टर रैली निकालेंगे.

    बगैर मुख्यातिथि के होगी परेड: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को परेड में मुख्यातिथि के तौर पर शामिल होना था, लेकिन यूके में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते उन्होंने इस दौरे के रद्द कर दिया है. पांच दशकों में ऐसा में यह पहली बार होगा जब गणतंत्र दिवस की परेड में कोई भी अतिथि शामिल नहीं होगा. इससे पहले ऐसे हालात 1952,1953 और 1966 में बने थे.

    दर्शकों की संख्या घटेगी: इस बार गणतंत्र दिवस के जश्न में दर्शकों की संख्या को 25 हजार कर दिया है. जबकि, बीते साल यह आंकड़ा 1 लाख 50 हजार का था. वहीं, पत्रकारों की संख्या में भी कटौती की गई है. इस बार 300 के बजाए 200 पत्रकार ही शामिल हो सकेंगे.

    परेड कार्यक्रम बदला: इस बार परेड केवल इंडिया गेट के सी हेक्सागॉन स्थित नेशनल स्टेडियम तक जाएगी. इस दौरान केवल झांकियों को ही लाल किले तक जाने दिया जाएगा.

    कई कार्यक्रम रद्द: वरिष्ठ सैनिकों की होने वाली परेड और सीएपीएफ के जवानों के मोटरसाइकिल करतबों को भी इस साल कैंसिल कर दिया गया है.

    छोटे बच्चों को अनुमति नहीं: इंडिया गेट के मैदानों में इस बार 15 साल से कम उम्र के बच्चों को आने की अनुमति नहीं है. वहीं, इस साल स्कूली बच्चे भी शामिल नहीं हो सकेंगे.

    Tags: Republic day

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें