लाइव टीवी

CAA: भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद में अटारी-वाघा सीमा से वीजिटर वीजा पर आए 200 पाकिस्तानी हिंदू

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 12:23 PM IST
CAA: भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद में अटारी-वाघा सीमा से वीजिटर वीजा पर आए 200 पाकिस्तानी हिंदू
अटारी-वाघा सीमा से आये पाकिस्तानी हिंदू

पाकिस्तानी हिंदू वीजिटर वीजा पर भारत आए हैं, सीमा पार कर भारत आने वाले अधिकांश यात्री सिंध और कराची क्षेत्र के थे. उनमें से कुछ के पास सामान था और वे कह रहे थे कि वे भारत में आश्रय ढूंढेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 12:23 PM IST
  • Share this:
अमृतसर. अटारी वाघा सीमा पार कर लगभग 200 पाकिस्तानी हिंदू सोमवार को भारत आए. अधिकारियों ने बताया कि इन लोगों को देख कर और बात से लग रहा है जैसे कि ये सभी वापस पाकिस्तान नहीं जाना चाहते हैं. पाकिस्तानी हिंदू वीजिटर वीजा पर भारत आए हैं लेकिन उनमें से कुछ ने दावा किया कि वे पाकिस्तान में सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं और सीएए लागू होने के बाद वे भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद कर रहे हैं.

पाकिस्तान से आने वाले हिंदूओं की बढ़ी संख्या
अकाली दल के नेता और दिल्ली सिक्ख गुरूद्वारा प्रबंधक समिति के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सीमा पर धार्मिक उत्पीड़न के कारण पाकिस्तान से भागने का दावा करने वाले 4 परिवारों को लेने के लिए सीमा पर गये थे. सीमा अधिकारियों ने दावा किया कि पिछले महीने की तुलना में पाकिस्तान से आने वाले हिंदूओं की संख्या में भारी इजाफा हुआ है.

CAA के बाद उम्मीदें बढ़ी

संशोधित नागरिकता कानून में 31 दिसंबर 2014 से पहले भारत आने वाले पाकिस्तान, बांग्लादेश तथा अफगानिस्तान के सताए गए गैर मुस्लिम धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान है. सीमा पार कर भारत आने वाले अधिकांश यात्री सिंध और कराची क्षेत्र के थे. उनमें से कुछ के पास सामान था और वे कह रहे थे कि वे भारत में आश्रय ढूंढेंगे. पहचान छुपाने की शर्त पर एक पाकिस्तानी हिंदू ने कहा कि नए नागरिकता कानून के लागू होने के बाद पाकिस्तान और अफगानिस्तान में रहने वाले हिंदू भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद कर रहे हैं. उनमें से अधिकांश अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए राजस्थान आ रहे हैं.

महिलाओं को बना रहता है डर
एक महिला ने कहा, हम पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं महसूस करते. हमारी लड़कियों को हमेशा डर लगा रहता है कि कोई कट्टरपंथी उनका अपहरण कर लेगा और पुलिस मूक दर्शक बनी देखती रह जाएगी. हमारी लड़कियां पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र में आजादी से चल भी नहीं सकती हैं. बिना अपना नाम बताए दो अन्य महिलाओं ने मीडिया को बताया कि पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों का अपहरण अब रोज की बात हो गई है और किसी भी परिवार ने कट्टरपंथियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने की हिम्मत नहीं की.सिरसा करेंगे अमित शाह से बात
सिरसा ने कहा कि वह मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलेंगे और उनसे इन लोगों को भारतीय नागरिकता देने का अनुरोध करेंगे. सिरसा ने ट्वीट किया, “अपना धर्म और जीवन बचाने के लिए चार हिंदू-सिख परिवार पाकिस्तान से भाग आए. आज मैं उन्हें सीमा से लिवा लाया. हम जल्दी से जल्दी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर उनसे इन्हें नागरिकता देने का अनुरोध करेंगे.”

ये भी पढ़ें: सियाचिन में तैनात जवानों को नहीं मिल रहे कपड़े और खाने का सामान: CAG रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 8:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर