अरब सागर में इस हफ्ते बन सकता है 2021 का पहला चक्रवात, इन राज्यों में होगी बारिश

कई राज्यों में तेज बारिश और हवाओं को लेकर चेतावनी जारी की गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

कई राज्यों में तेज बारिश और हवाओं को लेकर चेतावनी जारी की गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

2021's First Cyclone: मौसम विभाग ने मंगलवार को कहा कि 14 मई की सुबह दक्षिण-पूर्व अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. लक्षद्वीप से सटे इस क्षेत्र में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है. यह 16 मई के आसपास एक चक्रवाती तूफान के तौर पर तेज हो सकता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने मंगलवार को एक पूर्वानुमान जारी कर 16 मई को अरब सागर में एक साइक्लोन के संभावित विकास का संकेत दिया है. अगर देखा जाए, तो ये साल 2021 का पहला चक्रवाती तूफान होगा जो उत्तर हिंद महासागर क्षेत्र में बनेगा और म्यामांर के चक्रवात तॉकते का अधिग्रहण कर लेगा. मौसम विभाग ने गुरुवार से लेकर 16 मई तक लक्षद्वीप, केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश की चेतावनी जारी की है. बारिश मुख्य रूप से कम दबाव की प्रणाली के बनने और इसके तेज होने से जुड़ी होगी. इस क्षेत्र में चक्रवात आने के लिए जैसी परिस्थितयों की आवश्यकता होती है, वैसी स्थितियां बनी हुई हैं.

मैडेन जूलियन ऑसिलेशन (MJO) की वर्तमान स्थिति अरब सागर पर वर्षा बढ़ाने के पक्ष में है जो कि सप्ताह तक चलने की उम्मीद है. मौसम विभाग ने मंगलवार को कहा कि 14 मई की सुबह दक्षिण-पूर्व अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. लक्षद्वीप से सटे इस क्षेत्र में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है. यह 16 मई के आसपास एक चक्रवाती तूफान के तौर पर तेज हो सकता है.

ये भी पढ़ें- कैसे होता है अलग-अलग तरीकों से वैक्सीन निर्माण? टीके के बारे में अ से ज्ञ तक सबकुछ समझिए

इसकी शुरुआत होने के लिए गुरुवार को पर्याप्त समुद्री परिस्थितियां विकसित होने की उम्मीद है, जिसके मद्देनजर, तटीय राज्यों के मछुआरों को शुक्रवार से समुद्र में न उतरने को लेकर चेतावनी दी गई है. इसके साथ ही पहले से ही समुद्र में गए हुए लोगों को बुधवार रात तक सुरक्षित स्थानों पर लौटने का आग्रह किया गया है.


चलेंगी तेज हवाएं

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि समुद्र की स्थिति, मुख्य रूप से कोमोरिन क्षेत्र और पूर्व-मध्य अरब सागर के बीच, 14 से 16 मई के बीच बहुत उबड़-खाबड़ होगी. गोवा और महाराष्ट्र के तटों पर भी 15 मई को इसी तरह के उथले समुद्र की आशंका है. गुरुवार को लक्षद्वीप, मालदीव के इलाकों में 40 से 50 किलोमीटर / घंटा की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के साथ बारिश हो सकती है. इसकी स्पीड 60 किलोमीटर / घंटा तक हो सकती है. केरल, गोवा, कर्नाटक और महाराष्ट्र के तट भी रविवार तक इसी तरह की तेज हवा का अनुभव किया जा सकता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज