कांग्रेस मुख्यालय में 'एक कमरा मिले न्यारा...' पर घमासान

कांग्रेस मुख्यालय में 'एक कमरा मिले न्यारा...' पर घमासान
कांग्रेस मुख्यालय के अगले हिस्से में ही अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के आधिकारिक दफ्तर हैं (फाइल फोटो, PTI)

कांग्रेस (Congress) जनरल सेक्रेटरी (General Secretary) और प्रदेश प्रभारियों (State In-charge) को मिलाकर कुल 26 नामों की घोषणा नई लिस्ट में की गई. उनमें से कई तो पुरानी टीम में भी थे, लेकिन कमरे का खेल नए नए पदाधिकारी बने नेताओं को लिए ज़्यादा टेढ़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 5:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जी हां, ये कोई फिल्मी पटकथा नहीं है, लेकिन मामला फिल्मी से कम भी नहीं. कांग्रेस (Congress) के केंद्रीय मुख्यालय (Central Headquarters) 24 अकबर रोड (24 Akbar Road) में इन दिनों कहानी थोड़ी-थोड़ी फिल्मी ही चल रही है. एक तो नई टीम बनी है, यानि नए हीरो की एंट्री बतौर जनरल सेक्रेटरी (General Secretary) और प्रदेश प्रभारियों (State In-charge) को तौर पर हुई है, तो दूसरी तरफ जश्न मनता उससे पहले ही टेंशन कुछ और है. वैसे तो सियासत (Politics) में महत्व कुर्सी का ज्यादा है, लेकिन कुर्सी जब मिल ही गई है तो अब नेता जी को कुछ और चाहिए. इन दिनों कांग्रेस मुख्यालय (Congress Headquarters) में घमासान मचा है, कमरे को लेकर.

चलिए, पूरी कहानी बताते हैं. दरअसल मामला कुछ यूं है कि पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष (Congress President) सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने अपनी नई टीम की घोषणा की तो कई पुराने धुरंधरों का पत्ता साफ हुआ तो कई चेहरे ऐसे भी थे जिनकी किस्मत चमक गई. जनरल सेक्रेटरी और प्रदेश प्रभारियों को मिलाकर कुल 26 नामों की घोषणा नई लिस्ट में की गई. उनमें से कई तो पुरानी टीम में भी थे, लेकिन कमरे का खेल नए नए पदाधिकारी बने नेताओं को लिए ज़्यादा टेढ़ा है. कांग्रेस मुख्यालय में दरअसल दो हिस्से हैं- एक अगला तो दूसरा पिछला. अगले हिस्से में ही अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी के आधिकारिक दफ्तर भी हैं. तो नए नवेले जनरल सेक्रेटरी और प्रभारियों में ये होड़ लगी है कि अगली पंक्ति के कमरों पर किसका अधिकार होगा.

कई नेताओं ने अपने पर्सनल स्टाफ भेज करवाया कमरों का मुआयना
जनरल सेक्रेटरी में से अजय माकन, तारिक अनवर, रणदीप सिंह सुरजेवाला ने तो अगली पंक्ति में अपनी जगह हासिल कर रखी है. सूत्रों की माने तो तारिक अनवर को अम्बिका सोनी का कमरा दिया जाएगा. वहीं अजय माकन को राजस्थान प्रभारी महासचिव बनाया गया है, उस लिहाज से अविनाश पांडे का कमरा उनके हिस्से गया. उसी तरह पवन बंसल को मोतीलाल वोरा का कमरा दिया जा रहा है. AICC में आगे का कमरा जो अबतक वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद का था, उसमें रणदीप सुरजेवाला की एंट्री होगी. लेकिन मुश्किल हो रही है उन नेताओं को जो दस जनपथ से और करीब होना चाहते हैं, इस बहाने कि उनका दफ्तर भी मैडम वाली कतार में आ जाए.
इस बाबत कई नेताओं ने अपने पर्सनल स्टाफ कांग्रेस मुख्यालय भेज कर कमरों का मुआयना भी करवाया है. नेताओं की चाहत है कि फ्रंट रो में रहे और कमरा भी बढ़िया मिले. इनमें राजीव शुक्ला, जितिन प्रसाद, भंवर जितेंद्र सिंह, विवेक बंसल सहित कई नेता शामिल हैं. लग ऐसा रहा है कि मानो अगले कमरे में जगह नहीं मिली तो पिछले कमरे में ठिकाना मिलेगा और पिछला कमरा नेतागिरी की रेस में पिछड़ने का द्योतक न बन जाए. कयास तो ये भी लग रहे हैं कि कहीं एक ही कमरे में दो-दो प्रभारियों को भी एडजस्ट करना पड़ेगा जो हाल में कुछ प्रभारी AICC में कर भी रहे हैं.



यह भी पढ़ें: Congress-RLSP ने बढ़ा दी RJD की टेंशन! तेजस्वी को CM फेस मानने से किया इनकार

तो बात यही रही ना, एक कमरा मिले न्यारा...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज