लाइव टीवी

घाटी में लहराया ISIS का झंडा, भारत को कितना खतरा?

News18India
Updated: October 13, 2014, 2:54 PM IST

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में कुछ दिन पहले सुरक्षा बलों के सामने काले झंडे लहराए गए। ये झंडा था इराक में कोहराम मचाने वाले आतंकी संगठन आईएसआईएस का।

  • News18India
  • Last Updated: October 13, 2014, 2:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। बाढ़ के कहर और पाक फौज की फायरिंग के बाद कश्मीर एक बार फिर सुर्खियों में है। लेकिन इस बार सुर्खियों में आने की वजह बेहद गंभीर है। श्रीनगर में ईद की नमाज के बाद भड़की हिंसा के दौरान प्रदर्शनकारियों ने इराक के खतरनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस का झंडा लहराया गया।

इस जानकारी ने सुरक्षा एजेंसियों के होश उड़ा दिए हैं। हालांकि इस मुद्दे पर कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं लेकिन सुरक्षा एजेंसियां उन लोगों की तलाश में जुटी हैं जिन्होंने आईएसआईएस का झंडा लहराया था।

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में कुछ दिन पहले सुरक्षा बलों के सामने काले झंडे लहराए गए। ये झंडा था इराक में कोहराम मचाने वाले आतंकी संगठन आईएसआईएस का। दोनों झंडे एक ही थे। ये नजारा था 6 अक्टूबर का।



6 अक्टूबर को श्रीनगर के ईदगाह मैदान में ईद की नमाज अदा करने के बाद गाजा पट्टी में इजरायली हमले के खिलाफ प्रदर्शन निकाला गया था। सुरक्षाबलों ने भीड़ को रोकने की कोशिश की तो दोनों पक्षों के बीच पथराव शुरू हो गया। इसी दौरान प्रदर्शनकारियों की भीड़ में शामिल दो युवाओं ने सुरक्षाबलों के सामने आतंकी संगठन आईएसआईएस का काला झंडा लहराया। दोनों युवकों ने अपने चेहरे पर रूमाल बांध रखा था।



घाटी में आईएसआईएस का झंडा लहराने का ये पहला मौका नहीं है। इससे पहले 27 जून को भी एक रैली के दौरान ISIS का झंडा लहराया गया था। जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक पिछली बार जिन लड़कों ने आईएसआईएस का झंडा फहराया था उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई थी। पूछताछ में लड़कों ने सुरक्षा एजेंसियों ने बताया कि उन्होंने खिलवाड़ में ऐसा किया। बाद में इन लड़कों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था। अब एक बार फिर आईएसआईएस का झंडा लहराए जाने की घटना ने सुरक्षा बलों के कान खड़े कर दिए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी इसे गंभीरता से लिया है।

वैसे खुफिया और सुरक्षा एजेंसियां फिलहाल इस पूरे मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं। लेकिन सूत्रों का कहना है कि सरकार इस मामले में बेहद गंभीर है। ये भी खबर है कि आईबी के अफसरों की दिल्ली में उच्चस्तरीय बैठक भी हुई है। सुरक्षा एजेंसियां प्रदर्शन के दौरान आईएसआईएस का झंडा लहराने वाले युवकों की तलाश में जुटी हैं। वहीं कांग्रेस ने भी कहा है कि भारत जितने बड़े देश में ऐसी बचकानी हरकतों से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

घाटी में जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिद्दीन जैसे आतंकी संगठन पहले से ही मौजूद हैं। ऐसे में अगर आईएसआईएस के समर्थकों की तादाद बढ़ी तो सुरक्षा एजेंसियों की मुश्किल और बढ़ जाएगी। इस बीच सेबी ने भी स्टॉक एक्सचेंज को आगाह किया है कि आईएस फर्जी कंपनियों के जरिए शेयर बाजार में पैसा लगाने की फिराक में है। ऐसे में बाजार में लग रहे पैसे पर भी नजर रखी जा रही है।


इस अहम विषय पर बात करने के लिए हमारे साथ जुड़े द इंडियन एक्सप्रेस के नेशनल एडिटर प्रवीण स्वामी, शिया धर्म गुरू कल्बे जव्वाद और गरीब नवाज फाउंडेशन के चेयरमैन अंसार रजा।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 13, 2014, 2:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading