महाराष्ट्र में एक दिन में कोरोना वायरस के 2,739 नये मामले, 120 लोगों की हुई मौत

सात दिन के अंदर जुर्माना राशि जमा नहीं होने पर अस्पताल का पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा. (सांकेतिक तस्वीर)
सात दिन के अंदर जुर्माना राशि जमा नहीं होने पर अस्पताल का पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा. (सांकेतिक तस्वीर)

स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने एक बयान में बताया कि दिन में 2,234 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पतालों (Hospitals) से छुट्टी दे दी गई. अब तक इस बीमारी (Disease) से 37,390 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में शनिवार को कोविड-19 (Covid-19) के 2,739 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 82,968 हो गई है जबकि 120 और मरीजों (Patients) की मौत के बाद मृतक संख्या 2,969 पहुंच गई है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने यह जानकारी दी.

विभाग ने एक बयान में बताया कि दिन में 2,234 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पतालों (Hospitals) से छुट्टी दे दी गई. अब तक इस बीमारी (Disease) से 37,390 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं. इसमें कहा गया है कि राज्य में अभी 42,609 मरीजों का इलाज चल रहा है और अब तक कुल 5,37,124 नमूनों की जांच की गई है.

महाराष्ट्र ने 11 लाख से ज्यादा प्रवासियों को घर पहुंचाने में खर्चे 100 करोड़ रुपये
वहीं महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस प्रसार के बीच 11 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को उनके गृह राज्यों तक पहुंचाने के लिए केंद्र की किसी मदद का इंतजार किये बिना 100 करोड़ रुपये खर्च किये.
देशमुख ने कहा कि राज्य सरकार ने मजदूरों को रेल टिकट (Rail Ticket) के अलावा खाने के पैकेट और अन्य जरूरी सामान भी मुहैया कराया.



राज्य सरकार ने केंद्र की मदद का इंतजार किये बिना प्रवासियों को भेजा घर
देशमुख ने कोविड-19 के हालात पर अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता करने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘केंद्र सरकार ने (श्रमिक विशेष ट्रेनों में महाराष्ट्र से मजदूरों की यात्रा के लिए टिकट पर) 85 प्रतिशत सब्सिडी (Subsidy) देने का आश्वासन दिया था. लेकिन राज्य सरकार ने वित्तीय सहायता का इंतजार नहीं किया और 11 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों को भेजने पर 100 करोड़ रुपये खर्च किये.’’

निशुल्क चिकित्सा उपचार का लाभ उठा सकते हैं नागरिक
देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र के जो नागरिक सेहत संबंधी जटिल समस्याओं का सामना कर रहे हैं, वे राज्य की ‘महात्मा ज्योतिबा फुले जन आरोग्य योजना’ के तहत निशुल्क चिकित्सा उपचार (Free Medical Treatment) का लाभ उठा सकते हैं.

राकांपा (NCP) नेता ने कहा, ‘‘सरकार ने राज्य में कुछ अस्पतालों को चिह्नित किया है जहां नागरिक मुफ्त उपचार करा सकें.’’ उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग सेवा में लगे अपने कर्मियों का ध्यान रख रहा है.

यह भी पढ़ें: IIT हैदराबाद ने विकसित की सस्ती कोविड-19 जांच किट, 20 मिनट में आएंगे नतीजे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज