भारत-मध्य एशिया वार्ता की दूसरी बैठक कल, भारत समेत पांच देशों के विदेश मंत्री लेंगे हिस्सा

विदेश मंत्री एस. जयशंकर
विदेश मंत्री एस. जयशंकर

India-Central Asia Dialogue: बैठक में भारत, कजाकिस्तान (Kazakhstan), ताजिकिस्तान (Tajikistan), तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan) और उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) के विदेश मंत्रियों के साथ-साथ किर्गिज गणराज्य (Kyrgyz Republic) के पहले उप विदेश मंत्री भाग लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 8:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-मध्य एशिया वार्ता की दूसरी बैठक (2nd India-Central Asia Dialogue) बुधवार वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयोजित की जाएगी. विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) की ओर से ये जानकारी दी गई. इस बैठक में भारत, कजाकिस्तान (Kazakhstan), ताजिकिस्तान (Tajikistan), तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan) और उज्बेकिस्तान (Uzbekistan) के विदेश मंत्रियों के साथ-साथ किर्गिज गणराज्य (Kyrgyz Republic) के पहले उप विदेश मंत्री भाग लेंगे. विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि इन सभी देशों के मंत्री राजनीतिक, सुरक्षा, आर्थिक और वाणिज्यिक, मानवीय और सांस्कृतिक क्षेत्रों के साथ-साथ आपसी हित के क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे.

भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से विज्ञप्ति जारी कर बताया गया कि भारत-मध्य एशिया वार्ता की दूसरी बैठक 28 अक्टूबर 2020 को डिजिटल वीडियो-कॉन्फ्रेंस प्रारूप में आयोजित की जाएगी. इस बैठक में भारत के विदेश मंत्री, कजाकिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उज्बेकिस्तान के साथ-साथ किर्गिज गणराज्य के प्रथम उप विदेश मंत्री भाग लेंगे. इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ अफगानिस्तान (Islamic Republic of Afghanistan) के कार्यवाहक विदेश मंत्री भी विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में बैठक में भाग लेंगे.

ये भी पढ़ें- FM सीतामरण ने कहा- इकोनॉमी में सुधार के संकेत, लेकिन निगेटिव रहेगी GDP ग्रोथ



इन मुद्दों पर चर्चा करेंगे सभी देशों के नेता
मंत्रालय की ओर से बताया गया कि सभी मंत्री राजनीतिक, सुरक्षा, आर्थिक और वाणिज्यिक, मानवीय और सांस्कृतिक क्षेत्रों के साथ-साथ पारस्परिक हित के क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों सहित कई क्षेत्रों में विचारों का आदान-प्रदान करेंगे. इसके साथ-साथ ये मंत्री क्षेत्र में कनेक्टिविटी और विकास भागीदारी को बढ़ावा देने पर विशेष रूप से विचार-विमर्श करेंगे.

बता दें भारत और मध्य एशियाई देशों के बीच सहयोग को और मजबूत करने वाली इस कॉन्फ्रेंस को 2020 में भारत में ही आयोजित किया जाना था लेकिन कोविड-19 महामारी के प्रकोप के चलते इस बैठक को वर्चुअली आयोजित किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- ICMR प्रमुख ने कहा- कोरोना से होने वाली मौतों में पॉल्यूशन का भी योगदान

गौरतलब है कि भारत-मध्य एशिया वार्ता की उद्घाटन बैठक भारत और उज्बेकिस्तान द्वारा संयुक्त रूप से 13 जनवरी 2019 को समरकंद (उज्बेकिस्तान) में आयोजित की गई थी. यह भारत और मध्य एशियाई देशों के बीच सहयोग को और मजबूत करने के लिए एक मंच देने के लिए की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज