Assembly Banner 2021

दो दिन में भारत पहुंचेंगे 3 राफेल, अप्रैल में 9 और लड़ाकू विमान बढ़ाएंगे IAF की ताकत

भारत और फ्रांस के बीच सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा किया गया था.  

भारत और फ्रांस के बीच सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा किया गया था.  

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि तीन राफेल (Rafale) लड़ाकू विमानों की खेप 30 या 31 मार्च को भारत (India) पहुंच जाएंगे. बता दें कि भारत और फ्रांस के बीच सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 4:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीन और पाकिस्‍तान जैसे पड़ोसी देशों से पिछले काफी समय से चले आ रहे तनाव के बीच भारत सरकार लगातार अपनी सेना को ताकतवर बनाने में जुटी हुई है. भारतीय वायुसेना (IAF) की ताकत बढ़ाने के लिए 12 राफेल (Rafale) विमान और भारत आने वाले हैं. खबर है कि एक दो दिन में तीन लड़ाकू राफेल विमान अंबाला (Ambala) में लैंड करेंगे. इसके बाद अप्रैल के मध्‍य में नौ और राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस (France) से भारत पहुंचेंगे.

फ्रांस में मौजूद भारतीय राजनयिकों की ओर से जानकारी दी गई है कि भारतीय वायुसेना की टीम तीन राफेल को अंबाला ले जाने के लिए फांस पहुंच चुकी है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि तीन लड़ाकू विमानों की खेप 30 या 31 मार्च को भारत पहुंच जाएंगे. बता दें कि भारत और फ्रांस के बीच सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59 करोड़ रुपये का रक्षा सौदा किया गया था.

फ्रांस की कंपनी दसॉ एविएशन से पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 28 जुलाई को भारत पहुंचा था. राज्यसभा में बीते महीने एक सवाल का जवाब देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा था, "मैं सूचित करना चाहता हूं कि अब तक 11 राफेल विमान भारत पहुंच चुके हैं और मार्च माह तक कुल 17 विमान भारत की धरती पर होंगे. मैं यह भी जानकारी देना चाहता हूं कि अप्रैल 2022 तक राफेल का पूरा बेड़ा भारत पहुंच जाएगा."
इसे भी पढ़ें :- चीन पर नजर, पश्चिम बंगाल में भी वायुसेना बनाएगी राफेल की स्क्वॉड्रन



क्या हैं खूबियां
राफेल चौथी पीढ़ी का फाइटर जेट है. ये कई रोल निभाने में सक्षम कॉम्बैट फाइटर जेट है. ग्राउंड सपोर्ट, डेप्थ स्ट्राइक और एंटी शिप अटैक में सक्षम है. इसकी ताकत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि ये छोटे न्यूक्लियर हथियारों को ले जाने में सक्षम हैं. राफेल एयरक्राफ्ट 9500 किलोग्राम भार उठाने में सक्षम है. ये अधिकतम 24500 किलोग्राम वजन के साथ उड़ान भर सकता है. इस फाइटर जेट की अधिकतम रफ्तार 1389 किमी/घंटा है. एक बार में ये जेट 3700 किमी तक का सफर तय कर सकता है. ये हवा से हवा और जमीन दोनों पर हमला करने वाली मिसाइलों से लैस है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज