महाराष्‍ट्र में कोरोना से 301 मौतें, गुजरात के 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा

महाराष्‍ट्र में रोजाना डराने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं. वहीं गुजरात के 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. (फाइल फोटो)

महाराष्‍ट्र में रोजाना डराने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं. वहीं गुजरात के 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. (फाइल फोटो)

Coronavirus Epidemic: गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि राज्‍य में भी महामारी की रफ्तार बढ़ रही है. जिसे देखते हुए 20 शहरों में रात 8 बजे से सुबह 6 बजे के बीच नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्‍ट्र में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Epidemic) की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है. हर दिन डराने वाले आंकड़े सामने आ रहे हैं. राज्‍य में शुक्रवार को भी कोविड-19 के 58,993 नए केस सामने आए. इस दौरान 301 संक्रमितों को जान भी गंवानी पड़ी. हालांकि 45,391 मरीज स्‍वस्‍थ होकर घर भी लौटे. इसके साथ ही राज्‍य में सक्रिय मामले बढ़कर 5,34,603 पहुंच गए है. महाराष्‍ट्र में अब तक 32,88,540 केस सामने आ चुके हैं और 57,329 मरीजों की जान जा चुकी है. वहीं, कोरोना के कहर को देखते हुए गुजरात के 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया गया है.

गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि राज्‍य में भी महामारी की रफ्तार बढ़ रही है. जिसे देखते हुए 20 शहरों में रात 8 बजे से सुबह 6 बजे के बीच नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. हम परीक्षण और टीकाकरण पर विशेष ध्यान दे रहे हैं. पिछले 7 दिनों में हमने बेड्स की संख्या में 15,000 की वृद्धि की है. हम जल्द ही रेमडेसिविर के 3 लाख इंजेक्शन की खरीदारी करेंगे.

ये भी पढ़ें: AIIMS का दावा- केवल 26 डॉक्टर ही हुए हैं कोरोना से संक्रमित, 2 ने ही ली थी COVID-19 वैक्सीन की पहली डोज

ये भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना हुआ बेलगाम, 24 घंटे में सामने आए 8,521 नए केस, 39 की मौत
बता दें कि महाराष्‍ट्र में बेकाबू कोरोना के बीच वैक्‍सीन का संकट बरकरार है.

राज्य के कई केंद्रों पर वैक्सीन ही नहीं है. रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि मुंबई में 71 निजी वैक्सीन सेंटर्स में से 25 पर ताला लग गया है.





इसके पीछे कारण वैक्सीन की कमी होना बताया जा रहा है. इससे पहले भी राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सरकार से ज्यादा वैक्सीन स्टॉक आवंटित करने की बात कही थी. वहीं, केंद्र सरकार लगातार पर्याप्त स्टॉक और सही आवंटन की बात कह रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज