Assembly Banner 2021

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में 48 घंटे में 32 एवलान्च, BSF का एक और सेना के 4 जवान शहीद

पिछले 48 घंटे में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की उंचे इलाक़ों में ज़बरदस्त बर्फबारी जारी है. कई जगह सेना बचाव कार्य चला रही है.

पिछले 48 घंटे में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की उंचे इलाक़ों में ज़बरदस्त बर्फबारी जारी है. कई जगह सेना बचाव कार्य चला रही है.

जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) और लद्दाख (Laddakh) में हो रही बर्फबारी (Snow fall) से आम जीवन अस्त व्यस्त है. सीमा पर तैनात सेना के जवानों के लिए सबसे ज्यादा मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. पिछले 48 घंटों में यहां पर 32 से ज़्यादा छोटी बड़ी एवलांच (Avalanche) की घटनाएं हुई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 8:47 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) और लद्दाख (Laddakh) में हो रही बर्फबारी (Snow fall) से आम जीवन अस्त व्यस्त है. सीमा पर तैनात सेना के जवानों के लिए सबसे ज्यादा मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. पिछले 48 घंटों में यहां पर 32 से ज़्यादा छोटी बड़ी एवलांच (Avalanche) की घटनाएं हुई हैं. इन बर्फीले तूफान में सेना के 4 जवान और बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया है. गुरेज के कंजलवान सैक्टर में हिमस्खलन से ठीक पहले वहां मौजूद 200 से ज़्यादा जवानों को दूसरी जगह पर भेज दिया गया, जिसके चलते बड़ा हादसा होने से टल गया. तंगधार सैक्टर में हिम्सखलन की चपेट में सेना के 7 जवान आ गए, जिन्हें एवलान्च रेस्क्यू टीम ने तुरंत कार्रवाई करते हुए सही सलामत बचा लिया.

गुलमर्ग सैक्टर में भी सेना की एक पोस्ट एवलान्च (Avalanche) की चपेट में आ गई थी, जिसे सही सलामत बचा लिया गया. नौगाम सेक्टर में सोमवार शाम को बीएसएफ़ की एक पोस्ट हिम्सखलन की चपेट में आ गई, जिसमें 6-7 जवान फंस गए थे, जिन्हें निकाल लिया गया, लेकिन एक कॉन्सटेबल की इलाज के दौरान मौत हो गई. माछिल सेक्टर में सेना की एक पोस्ट बर्फ़ीले तूफ़ान की चपेट में आ गई, जिसमें 5 जवान दब गए. इनमें से चार को समय रहते निकाल लिया गया था. एक लापता जवान को खोज लिया गया, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका. 5 में से सिर्फ एक को ही बचाया जा सका. बाकी 4 जवानों की मौत हो गई.

नॉर्थ ग्लेशियर में तापमान -57 डिग्री तक
पिछले 48 घंटे में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की उंचे इलाक़ों में ज़बरदस्त बर्फबारी जारी है. गुरेज, बांदीपोरा, कुपवाड़ा, नौगाम और बारामूला में सबसे ज़्यादा बर्फबारी हुई है. गुरेज में 51 सेंटीमीटर, मच्छिल में 117 सेंटीमीटर, केरन और तंगधार में 56 सेंटीमीटर, नौगाम सैक्टर में 122 सेंटीमीटर और उरी गुलमर्ग सैक्टर में 61 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई है. सियाचिन में तापमान लागातार गिर रहा है. नॉर्थ ग्लेशियर में जहां भारतीय सेना तैनात है. वहीं तापमान गिरकर -57 डिग्री तक चला गया.
लद्दाख में टूरिस्ट भी ख़राब मौसम के चलते फंसे


लद्दाख में चादार ट्रैक में गए टूरिस्ट भी ख़राब मौसम के चलते फंस गए थे. प्रशासन के कहने पर सेना ने राहत बचाव का काम शुरू किया. इस राहत बचाव के काम में सेना के हैलिकॉप्टरों का भी इस्तेमाल किया गया. ख़राब मौसम और पहाड़ों के बीच से होते हुए सेना टूरिस्टो को बचाया. 6 टूरिस्ट ठंड के चलते बुरी तरह से बीमार हो गए थे, जिन्हे हैलिकॉप्टरों के जरिए लेह में सेना के मैडिकल सैंटर तक पहुँचाया गया.

यह भी पढ़ें...
दविंदर सिंह पर J&K पुलिस की सफाई, गृह मंत्रालय की ओर से नहीं मिला है कोई मेडल

संसद की कैंटीन में जल्‍द ही मिलना बंद हो जाएगी बिरयानी-मछली और नॉनवेज चिप्‍स!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज