कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सिविल सेवा के 32 अधिकारियों की पहल 'करुणा'

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में लोगों की मदद के लिए सिविल अधिकारियों ने बढ़ाए मदद के लिए हाथ.

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में लोगों की मदद के लिए सिविल अधिकारियों ने बढ़ाए मदद के लिए हाथ.

Coronavirus India News: ऑल इंडिया सर्विसेज के 32 अधिकारी पीएम मोदी के आह्वान पर कोरोना वायरस से त्रस्त जनता की सेवा में लग गए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आप स्टील फ्रेम कही जाने वाली भारत की नौकरशाही यानी सिविल सेवा के अधिकारियों की बात करें, तो पता चलेगा कि किस तरह ये अपनी ड्यूटी करने के साथ ही कोरोना वायरस से आम आदमी को राहत पहुंचाने के लिए अपने तरीके से ही काम मेंं लगे हुए हैं. अप्रैल 2020 में बना करुणा (CARUNA) एक समर्पित अधिकारियों का समूह है जो अपनी ड्यूटी करने के साथ ही आपस में सहयोग जारी रखता है, ताकि राहत पहुंचाने के रास्ते में आने वाली तमाम अड़चनों को चुटकी में दूर कर उसे सुनिश्चित किया जा सके.


CARUNA यानी 'सिविल सर्विसेज एसोसिएशन रीच टू सपोर्ट इन नेचुरल डिजास्टर्स' की कहानी बड़ी अनूठी है. इसमें 32 ऑल इंडिया सर्विसेज के अधिकारी पीएम मोदी के आह्वान पर अपनी शेल यानी खोल से बाहर आकर कोरोना से त्रस्त जनता की सेवा में लग गए हैं. देश भर में इनका नेटवर्क है और उसी के जरिये वो देश के हर कोने में मदद पहुंचाने का शूम भी रखते हैं.


Corona काल में लो राम का नाम, जानिए किस जिले में गाइड लाइन तोड़ने वालों को मिल रही ये अनोखी सजा


जाहिर है ये कोशिशें केन्द्र और राज्य सरकारों के काम को और आसान बना रही हैं. कोरोना की दूसरी लहर आई, तो करुणा का पूरा ध्यान लोगों के मेडिकल केअर पर केंद्रित कर दिया गया. MyGov से जुड़े एक सीनियर अधिकारी ने एक पोर्टल तैयार किया जिसमें कोविड से जुड़ी मेडिकल सप्लाई के बारे में पूरी जानकारी दी गई थी. Caruna india.org & Twitter.com/karunainda के माध्यम से इस समूह से संपर्क साधा जा सकता है.


प्लाज्मा जिसकी कमी को लेकर बार-बार चर्चा चल रही थी उसके लिए करुणा ने दिल्ली के ILBS (institute of liver & biliary sciences) से समझौता किया है. करुणा ने उन्हें अपने तमाम सदस्यों के माध्यम से प्लाज्मा दान करने की प्रक्रिया शुरू की है. करुणा ने अपने सदस्यों कहा है कि अगर जन्हें कोरोना से उबरे हुए 14 दिन हो गए हों, दिल्ली में हैं और प्लाज्मा दान करना चाहते हैं तो आगे आएं. करुणा की वेबसाइट बता रही है कि जिसका वजन 55 किलो से कम या फिर अंडर वेट हो, जिसे डायबिटीज हो, गर्भवती महिला, उच्च रक्तचाप, फेफड़े, किडनी या दिल की बीमारी हो वो प्लाज्मा दान नहीं कर सकते.


गांवों में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, टेस्टिंग-इलाज के लिए उठाए कदम


करुणा ने E-Sehat के नाम से एक मुफ्त टेली कांफ्रेंस की सुविधा शुरू की है. इससे लोगों को मुफ्त डॉक्टरी सलाह दी जा रही है. इस पोर्टल में क्लिक करने पर ये आपसे सारी जानकारी लेगा और एक डॉक्टर आपसे संपर्क मे आएगा. करुणा ने सेंट्रल पोस्टल लेडीज ऑर्गेनाइजेशन के साथ मिल कर एक हंगर हेल्पलाइन भी शुरू की है. इसका नंबर है 703123404 जिस पर डायल कर आप मदद ले सकते हैं चाहे आप देश के किसी भी कोने में हों. इसके साथ ही कोरोना से उबरने के बाद मानसिक परेशानी से गुजर रहे लोगों की सहायता के लिए टेली काउंसलिंग की व्यवस्था भी की गई है. करुणा के पोर्टल पर कई काउंसलर के नंबर भी हैं जिनसे संपर्क साधा जा सकता है.





इस महामारी में अपनी ड्यूटी के दौरान कई अधिकारियों ने अपनी जान गंवाई है, फिर भी पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) के आह्वान पर पूरा देश एकजुट होकर कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ जंग लड़ रहा है और हर शख्स और संगठन अपने तरीके से राहत के काम में लगा हुआ है, ऐसे में करुणा (CARUNA) से जुड़ कर ऑल इंडिया सर्विसेज के अधिकारी भी अपनी सरकारी ड्यूटी के साथ ही देश भर में एक-दूसरे का हाथ थाम कर राहत के काम को आगे बढ़ा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज