लाइव टीवी

पिछले 30 साल का सबसे खतरनाक भूकंप था ये!

आईएएनएस
Updated: April 25, 2015, 1:47 PM IST
पिछले 30 साल का सबसे खतरनाक भूकंप था ये!
पाल में आया 7.9 की तीव्रता का भूकंप पिछले कई सालों के भूकंप से खतरनाक है। पिछले 30 सालों में ऐसे कई भूकंप आए हैं, लेकिन ये भूकंप सबसे भयावह है।

पाल में आया 7.9 की तीव्रता का भूकंप पिछले कई सालों के भूकंप से खतरनाक है। पिछले 30 सालों में ऐसे कई भूकंप आए हैं, लेकिन ये भूकंप सबसे भयावह है।

  • Share this:
नई दिल्ली। नेपाल में आया 7.9 की तीव्रता का भूकंप पिछले कई सालों के भूकंप से खतरनाक है। पिछले 30 सालों में ऐसे कई भूकंप आए हैं, लेकिन ये भूकंप सबसे भयावह है। 30 साल पहले भी 15 जनवरी 1934 को नेपाल और बिहार में ऐसा ही 8.1 की तीव्रता वाला भयावह भूकंप आया था, जिसमें 10 हजार 700 लोगों की मौत हुई थी। वहीं भारत और दक्षिण-पूर्व देश समय-समय पर कई भूकंपों के प्रत्यक्षदर्शी रहे हैं।

पिछले 15 सालों में आए भयावह भूकंप

23 नवंबर 2014: चीन में 6.3 तीव्रता का एक भूकंप आया, दो लोग मारे गए।

23 नवंबर 2014: जापान में 6.7 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें 50 लोग घायल हुए, जबकि 10 घर धराशायी हो गए।

5 मई 2014: बंगाल की खाड़ी में 6 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसके झटके भारत में महसूस किए गए।

25 सितंबर 2013: पाकिस्तान के सुदूरवर्ती दक्षिण-पश्चिम प्रांत बलूचिस्तान में 7.7 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें 300 से अधिक लोग मारे गए।

20 अप्रैल 2013: दक्षिण-पश्चिम चीन के सिचुआन प्रांत में 6.6 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें लगभग 150 लोग मारे गए, जबकि कई अन्य घायल हुए।
Loading...

20 सितंबर 2011: सिक्किम में 6.8 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें कम से कम 68 लोग मारे गए, जबकि 300 से अधिक लोग घायल हुए।

22 सितंबर 2009:
भूटान में 6.3 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें कम से कम 10 लोग मारे गए।

8 अक्टूबर 2005: उत्तरी पाकिस्तान में 7.6 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें कम से कम 86 हजार लोग मारे गए, जबकि 69 हजार से अधिक लोग घायल हुए।

26 जनवरी 2001: गुजरात के भुज में 7.7 तीव्रता का एक भूकंप आया, जिसमें 10 हजार से अधिक लोग मारे गए।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 25, 2015, 1:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...