• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पंजाब: आय से अधिक संपति का मामला, पूर्व DGP सैनी समेत 6 आरोपियों के 37 बैंक खाते सीज

पंजाब: आय से अधिक संपति का मामला, पूर्व DGP सैनी समेत 6 आरोपियों के 37 बैंक खाते सीज

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी आय से अधिक संपति के मामले में विजिलेंस की रेड के बाद ईडी के रडार पर भी आ गए हैं.

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी आय से अधिक संपति के मामले में विजिलेंस की रेड के बाद ईडी के रडार पर भी आ गए हैं.

Disproportionate Assets Case: विजिलेंस की जांच में विदेशी कनेक्शन भी पाए गए हैं. चंडीगढ़ स्थित कोठी के एग्रीमेंट में भारी फेरबदल भी जांच में पाया गया है. चंडीगढ़ में सैनी द्वारा खरीदी गई कोठी का करार भी कथित तौर पर झूठा बताया जा रहा है.

  • Share this:

    चंडीगढ़. पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुमेध सिंह सैनी (Sumedh Singh Saini) आय से अधिक संपति के मामले में विजिलेंस की रेड के बाद प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) के रडार पर भी आ गए हैं. उनकी संपतियों की जांच अब ईडी ने भी शुरू कर दी है. विजिलेंस को प्राथमिक जांच के दौरान उनके बैंक खातों की जानकारी मिली थी. जिसके बाद विजिलेंस ने सैनी सहित 6 आरोपियों के 37 बैंक खातों को सीज कर दिया है. इन खातों से आरोपियों के खातों में करोड़ों रुपये का लेनदेन हुआ है.

    एक दैनिक अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक यह बैंक खाते चंडीगढ़, हरियाणा, पंजाब व दिल्ली के बताए जा रहे हैं. कुछ खाते ऐसे भी हैं जिनमें 4 से 8 करोड़ रुपये तक बैलेंस था. कई खातों से करोड़ों का लेन देन भी सामने आया है. विजिलेंस की जांच में विदेशी कनेक्शन भी पाए गए हैं. चंडीगढ़ स्थित कोठी के एग्रीमेंट में भारी फेरबदल भी जांच में पाया गया है. चंडीगढ़ में सैनी द्वारा खरीदी गई कोठी का करार भी कथित तौर पर झूठा बताया जा रहा है. विजिलेंस की जांच में सामने आया है कि कोठी के मालिक निमरत दीप के पिता को अगस्त 2018 से 2020 तक बिना किसी रसीद या उद्देश्य के 6.4 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है.

    यह भी पढ़ें: प्रशांत किशोर ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के सलाहकार के पद से दिया इस्तीफा

    उधर इस मामले को अब राजनीतिक रंग दिए जाने की भी कोशिश की जा रही है. जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि अगर सैनी को गिरफ्तार नहीं करना था तो उनके यहां विजिलेंस की रेड ही क्यों करवाई गई. उन्होंने कहा कि यदि समय पर कार्रवाई की होती तो सैनी अग्रिम जमानत नहीं ले पाते. उन्होंने इसके लिए सीधे तौर पर विजलेंस चीफ बीके उप्पल को जिम्मेदार ठहराया.

    विजिलेंस ब्यूरो को प्राथमिक जांच में पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी और सहआरोपी निमरत दीप की आमदनी 172.9 फीसदी से अधिक है. विजिलेंस ब्यूरो को शक है कि निमरत दीप ने सुरिंदरजीत सिंह, अजय कौशल, प्रद्युमन, परमजीत, अमित सिंगला और पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी से मिलकर अपने परिवार के लोगों के नाम पर अवैध तरीके से संपतियां बनाई हैं. इस मामले में अब ईडी भी यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि इन लोगों का विदेश में क्या कनेक्शन है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज