Home /News /uttar-pradesh /

bank worker was opening fake accounts police suspected scam of thousands of crores nodss

बैंक कर्मी फर्जी खाते खोल कर रहा था काले को सफेद, पुलिस को शक- हजारों करोड़ का हुआ घपला

पुलिस अब आशीष से पूछताछ कर रही है और इस घोटाले में अन्य बैंक के अधिकारियों के भी गिरफ्तार होने की संभावना है.

पुलिस अब आशीष से पूछताछ कर रही है और इस घोटाले में अन्य बैंक के अधिकारियों के भी गिरफ्तार होने की संभावना है.

निजी बैंक में खाते खोल कर करोड़ाें रुपये का ट्रांजेक्‍शन करने का मामला उस समय सामने आया जब एक व्यक्ति को इनकम टैक्स का नोटिस मिला, लेकिन इस व्यक्ति को खाते की कोई जानकारी ही नहीं थी. पुलिस से शिकायत के बाद जब मामले की जांच की गई तो सभी चौंक गए. पढ़ें एक बड़े फ्रॉड की पूरी कहानी.

अधिक पढ़ें ...

मिर्जापुर. शहर में निजी बैंक में खाता खोल कर करोड़ाें रुपये के फ्रॉड का मामला सामने आया है. पुलिस ने एक व्यक्ति की शिकायत पर जब मामले की जांच करनी शुरू की तो ये एक बड़ा घोटाला बन कर सामने आया. दरअसल जय प्रकाश केसरी नामक एक व्यक्ति से निजी बैंक में खाता खोलने के नाम पर डॉक्यूमेंट्स लिए गए. डॉक्यूमेंट लेने वाला आशीष सिंह बैंक कर्मचारी था और जय प्रकाश का परिचित भी था. फिर अचानक आशीष ने जय प्रकाश को कह दिया कि उसे खाते की आवश्यकता नहीं है और इसे बंद कर रहे हैं. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

पूरे मामले का खुलासा उस समय हुआ जब मई 2021 को जय प्रकाश के पास इनकम टैक्स विभाग से 11 करोड़ 44 लाख रुपये का नोटिस आया. इसके बाद मार्च 2022 में 17 करोड़ रुपये के ट्रांजेक्‍शन का ब्यौरा मांगा गया. लेकिन जय प्रकाश ने न तो ऐसा कोई ट्रांजेक्‍शन किया था और न ही उसको ऐसे किसी बैंक खाते की जानकारी थी. इस संबंध में जय प्रकाश ने पुलिस से शिकायत की.

जब इस मामले की पड़ताल की गई तो पता चला कि अप्रैल 2014 से 2016 के बीच इस खाते से 52 करोड़ का लेनदेन किया गया. जिसके एवज में इनकम टैक्स विभाग ने उसे नोटिस भेजा था. पुलिस ने तहकीकात की तो आरोपी आशीष सिंह का नाम सामने आया. जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

फिर खुले परत दर परत राज

आरोपी आशीष ने पूछताछ में बताया कि उनका एक बड़ा नेटवर्क है जो काले धन को सफेद करने का काम करता है और लोगों को अपने झांसे में लेकर उनके नाम से फर्जी अकाउंट खोले जाते हैं. पुलिस ने बताया कि आशीष से 47 खातों का पता चला है. जिसकी जांच की जा रही है. संभावना है कि हजार से डेढ़ हजार करोड़ तक का फ्रॉड हो सकता है. आशीष ने बताया कि फर्जी खातों से पैसा मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र सहित कई अन्य राज्यों में ट्रांसफर किया जाता था.

एक दो नहीं 47 खाते

पूछताछ के दौरान आशीष ने बताया कि ऐसे 47 खातों से पैसे का हेरफेर किया जा रहा था. इसी को लेकर पुलिस ने अंदाजा लगा रही है कि इस पूरे घोटाले की राशी 1 से 1.5 करोड़ रुपये तक भी पहुंच सकती है. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है और अन्य सभी 47 खातों की जानकारी निकाल कर उनसे पैसा कहां गया और खातों में पेसा कहां से आया इसका पता किया जा रहा है. पुलिस ने बताया कि आशीष सिंह एक्सिस बैंक में पहले असिस्टेंट ब्रांच मैनेजर के तौर पर काम करता था. अब पुलिस कई अन्य बैंक अधिकारियों को भी इस घोटाले में लिप्त होने के पीछे गिरफ्तार कर सकती है.

Tags: Bank fraud, Crime News, UP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर